dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

बन्द करूँ सम्मानक मेला ।। रचनाकार - निशान्त झा "बटोही"


 बन्द   करूँ   सम्मानक   मेला
 जन विद्वान बनल अछि खेला ।
 एक   दोसर    पागे   पहिराबी
 दोसर कीर्ति पर आँखि देखाबी ।।

 कियो ने कम बुधियारक सार
 सब भेटल गुरुए कियो नै चेला ।
 बन्द   करूँ   सम्मानक   मेला
 जन विद्वान बनल अछि खेला ।।

 अपने बनलौं सब भाग्य विधाता
 बुझिगेलौं सब आहाँ के गाथा ।
 बनल   प्रपंञ्ची  , सबटा   ज्ञानी
 देब  सम्मान   ,  बात  जौं  मानी ।।

 चाटुकारिता     एतय     प्रधान
 जँ नई करब  तS भेंटत ढ़ेला ।
  बन्द   करूँ   सम्मानक   मेला
  जन विद्वान बनल अछि खेला ।

 कूटनीति अइ कपट सँ भरल
 राज नीति तेलहि सब तरल ।
 विद्यापति नामक बनल धंधा 
 चला  रहल अइ देखू अंधा ।।

 मठोमाट अछि पग - पग बैसल
"बटोही" बुड़िबक ठाढ़ अकेला ।
 बन्द   करूँ   सम्मानक   मेला
 जन विद्वान बनल अछि खेला ।।

रचनाकार -
निशान्त झा"बटोही"





कोई टिप्पणी नहीं: