dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

मंगलवार, 19 जून 2018

कुहुकि कारी कोयलिया - रेवती रमण झा " रमण "

                                                              

अमुआँ के डारी से कारी कोयलिया,कुहुकि कुहकै
आजु   मीठ  -  मीठ  बोलिया  ,  कुहुकि   कुहकै
पछवा झमकि चलल , चलई पुरबैया
अमुँआ के  मंजरि  में जागल जे रैया
 सूतल   सिनेही  के   नेह   जगायबइ
                                   कुहुकि कुहकै -आजु...

  बट    कचनार    अनार    फुलायल
  विरहिन  पपिहराक   मन  बौरायल
  लाल  गुलाल  मलल चारु  पतियन
   रंगल   बेली    रे    जूही   चमेलिया
                                  कुहुकि कुहकै -आजु...

  गहूँम  मकैयक   बालि   उमरायल
  बूटक  बगिया  में  तिसी  समायल
  हरियर   धान   गुमाने  सं   मातल
    नव ऋतुराज आयल साजि डोलिया
                                कुहुकि कुहकै -आजु...

  छिटकल सिनुरिया सुरुज के लाली
  फुटल  कमल मधु  मधुपक  प्याली
     जागू किसान पिया जगवय किसानिन
    "रमण" सुमन खिलि आजु नव कलिया
                                कुहुकि कुहकै -आजु...

रचनाकार
रेवती रमण झा " रमण "


सोमवार, 18 जून 2018

मिथिला केर थिक इहय दलान- रचनाकार - रेवती रमण झा " रमण "

                                                   

   कहाँ     गेलौ      यौ     बैसु     बाउ ।
    लिय    तमाकुल    तेजगर    खाउ ।।
   पढ़ि  लिखि करब छीलब की घास ।
    विदाउट  इंग्लिश  परमोटेड  पास ।।

   धरु      अपन     पुस्तैनी      पेना ।
     पूर्व    पितामह     कैलनि      जेना ।।
    करू     घूर      करसी      सुनगाउ ।
     खटरस     चुटकी    बात    बनाउ ।।

    इंजीनियर    भेल  कते  कनै  छथि ।
     झामगुरि     सब    दिन   गनैछथि ।।
   पढ़ि  लिखि करत  कहु की क कय ।
     घरक   कैंचा    अपन     द    कय ।।

    होउ   दियौ    चुटकी    सरिया  कय ।
    फुरत   बात   तखन  फरिया  कय ।।
    तेजगर    पात    तमाकुल    मगही ।
     चुनबैत   लागत  खन-खन   बगही ।।

    सेकू    हाथ    दुनू    सरिया     कय ।
     लीय   तमाकुल  चून   मिला   कय ।।
    नोकर     चाकर   अनकर   नोकरी ।
      तै    सं   अपन    उठायब    टोकरी ।।

    ओ    कि   माइक    जनमल    बेटा ।
      हम    की    माइक   उपजल    टेटा ।।
     उपजायब    खायब    घर     चोकर ।
      कलम   वला   के    राखब   नोकर ।।

     सब   सं     बुद्धिक    बुद्धू   हम   ही ।
     मोछक     उठल     हमरो     पम्ही ।।
     हम  की   माउग   थिकौं   अग्यानि ।
      अनकर    बात   लेबै   हम    मानि ।।

     होउ    तरहथ    दय   दीयौ    चाटी ।
      अंग्रेजिया        छोरु        परिपाटी ।।
     उरत   चून    नहि    काटत    ठोरो ।
     कि, धरफर  करू  गिनै  छी  कोरे ।।

    पान  करू   रस  चुसि - चूसि   कय ।
     मिथ्या   नै  छी  कहैत  फूसि  कय ।।
     खोलू     पानबटा      परसू     पान ।
      ई   मिथिला   केर    थिक   दलान ।।

रचयिता
रेवती रमण झा " रमण "





गुरुवार, 14 जून 2018

दहेज़ मुक्त मिथिला अभियान


           
दहेज़  मुक्त मिथिला अभियान 
      अपन समाज के अहि  कूरीति से मुक्त करैक अभियान में १७ जून के  कुर्सों से दरभंगा के बीच ६० किलोमीटर के  मैराथन दौड़ मे 'दहेज मुक्त मिथिला' कउ  साथ दी ।  

 नव तुरिया सब में काफी शक्ति अच्छी । वो चाहे त कुछ कसकैत  अच्छी । दहेज मुक्त मिथिलाक   बात  से अपन  समाज के खासक  ओहि  समुदाय  लेल ओतेक जरुरी काज अछी जेकर , हम बखान नै कसकैत छी  |  
  दहेज   मुक्त  मिथिला का बस एक ही सपना | 
 घर-घर दहेज कूरीति से मुक्त संसार हो अपना || 

बुधवार, 13 जून 2018

कृषि - गीत - रेवती रमण झा " रमण "

             || कृषि - गीत ||
                       निज हाथ कुदारिक बेंट धरु
                                        
हर  बरद   के   साजि  पिया
  निज हाथ कुदारिक बेंट धरु ।
कूसक   वंश   उखारि   धरा
    सगरो  धरती  गुलजार  करु ।।

   माटिक पूजा तन माटि तिलक
     माटि   चरण   गहि  आब  परु ।
    जन-जन के प्राण किसान पिया
        अपन   देशक   दुःख   दूर   करु ।।

   पिया आहाँ बनू देशक किसान
   किसानिन        हम        बनबै
 किसानिन हम बनबै  ।।......

    माटिक   तन  सं   नेह  लगायब
    देशक  गरीबी  के  दूर  भगायब

    बनू  आहाँ  पिया  देशक  परान
     सुहागिन         हम          बनबै 
 किसानिन हम बनबै ।।........

           आगाँ-आगाँ आहाँ पिया हर चलायब
          पाछाँ-पाछाँ हम पिया टोर खसायब

     देतै  कोइली  बाँसुरिया  के  तान
        पपिहरा       के      प्रीत     सुनबै ।
किसानिन हम बनबै ।।........

      सदिखन बगिया के नयना निहारब
      गोबर खाद  पानि  सब  दिन डारब

      मुँसुकायत     गहूम     नव     धान
         मकै       एक       शान        करबै ।
   किसानिन   हम बनबै ।। ........

        हाथे में आब पिया वोडिंग दमकल
        चहुँदिश खेत  में  जलधार चमकल

        देखू   "रमणक"   पुरल    अरमान
          भारत         के       भूमि       भरबै ।
किसानिन हम बनबै ।।........

रचयिता
रेवती रमण झा " रमण "


मंगलवार, 12 जून 2018

कृषि-गीत - रेवती रमण झा " रमण "

     || कृषि - गीत ||
                                       



  एहिवेर  उपजा   सं  भरबै   बखारी ।
    धैरज  धरु   गोरी   मंगा  देब  सारी ।।

   गरदनि में सोना क सिकरी गदायब ।
    बाली गढ़ायब धनी बेसरि गढ़ायब ।।

    अंग  अंग सोनाक  छारि देब  गहना ।
       अंगना  चलब  धनी  तनके  निहारी ।।
         धैरज धरु-------------------------------

           खेत - खेत   उमरल   सोनरा  नगीना ।
                 देशक   ई  धन   किसानक   पसीना ।।

                 माटि    तिलक   तन   माटिक   पूजा ।
                 कमलक  फूल  हाथ  खुरपी कोदारी ।।
                 धैरज धरु -------------------------------

                 खल - खल    धरती    देखू    हँसैया ।
                 खेतक   आरि   धुर   लक्ष्मी   बसैया ।।

                 उठू  किसान  भैया  चहकल  चिड़ैयाँ ।
                 सुरुज  किरण  केर  खोलल  पेटारी ।।
                 धैरज धरु -------------------------------

                 ठीके  दुपहरिया में हर  जोति आयब ।
                 आहाँ  के देखि धनी धाम सुखायब ।।

                 शीतल  जल  आनि भोजन  करायब ।
                "रमण" बैसब  धनी बेनियाँ के झारी ।।

                                    गीतकार
                           रेवती रमण झा " रमण "