dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

बुधवार, 19 जून 2019

हे शंकर ! गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                             || नचारी ||
              हे शंकर !  आयल  शरण  हम  तोर
              कतेक करूण हम विनय सुनाओल
              करि - करि आहाँक निहोर ।।  हे शंकर....

              बालापन   नित   खेलि   गमाओल
              यौवन साँझहि सोय ।
              आयल    बुढ़ापा     निन्दन    टूटय
              यथपि भय गेल भोर ।।     हे शंकर....
          
              घर  अछि  दूर  कठिन  पथ  आगाँ
              स्थूल भेल शरीर ।
              लुकझुक  किरण   संग  नहि  पाथे
              भूखक ज्वाला जोर ।।     हे शंकर....

              कठिन - कठिन दुःख कतेक के भोला
              कयलहुँ पल में त्राण ।
             "रमण" शरण  में  आबि  चुकल अछि
               छोरत नाहि पछोर ।।      हे शंकर....

                                  गीतकार
                         रेवती रमण झा "रमण"
                                       

|| केहन काज करै छी || गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                     || केहन काज करै छी ||

                                        

             
                   जन्म द क करै छी जवान बाबू
                   हमर बेचैछी देहक ई चाम बाबू
                   केहन काज करै छी
                    हम त लाजे मरै छी

                   आहाँ त लेब बाबू नमरी हजारी
                   माय के थारी लोटा पौती पेटारी

                  होयत हमर त जिनगी जियान बाबू ।।
                                                 केहन काज.....
                  दहेजक   बोझ   तर   बेटी   कनैया
                  बरागत   कसैया     सबटा   जनैया

                  बन्द  करियौ बेटा  के  दुकान  बाबू
                                                केहन काज.....
                  सारि  सरहोजि  सब  मारैया  ताना
                  आहाँ  छी  बाबू   टका  के  दीवाना

                   कन्यागत  के  छुटल  परान बाबू ।।
                                               केहन काज.....
                   करिया पाथर सनक अछि काया
                 "रमण" मन मंदिर में बैसल  माया

                   जिनगी के कटिगेल चलान बाबू ।।
                                              केहन काज.....

                                  गीतकार
                        रेवती रमण झा "रमण"
                                       

बुधवार, 12 जून 2019

समदाउन ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                            || समदाउन ||
                                       

       
             कथी केर फूल कुम्हलाय गेल गै बहिना
             कौने जल गेल सुखाय ।
             कौने  वन  कुहुकई  कारी रे  कोयलिया
             कौने दाई खसली झमाय ।।

             कमलक फूल  कुम्हलाय गेल गै बहिना
             सरोवर  गेल   सुखाय ।
             विजुवन कुहुकइ कारी रे कोयलिया
             सीता दाई खसली झमाय ।।

             सीता के सुरति देखि विकल गे बहिना
             आइ सीता भेली विरान ।
             विधि के विवश भय सोचथि जनक जी
             बेटी धन होइत अछि आन ।।

             आबि गेल डोलिया कि चारु रे कहरिया
             चारु सखी देल अरियाति ।
             सुन  भेल  "रमण"  हे  जनक  नगरिया
             चली गेली सीता ससुरारि ।।

                                  गीतकार
                         रेवती रमण झा "रमण"