dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

अश्रुपात ।। बन ज्वालामुखी फटेगी जब ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                        ||     अश्रुपात    ||
                  " बन ज्वालामुखी फटेगी जब "
                                       

                     पावन  माँ  की  इन  आँखों से
                     जब  रक्त-पात  होगा  भूपर  ।
                     तब चील सियार स्वान वायस
                     होगा जमघट भू शव का घर ।।

                     ममता  की  मूरत  शांति रूप
                     बन ज्वालामुखी फटेगी जब ।
                     कर खड़ग और खप्पर लेकर
                     रणचण्डी  रूप  डटेगी जब ।।

                     महिषासुर पर यहाँ काल-चक्र
                     का  नांचेगा  ताँडव सिर पर ।
                     वो,विशालकाय का उन्नत सिर
                     भुज होगा विलग धरातल पर ।।

                     होकर   अनाथ   रे   महाबली
                     यहाँ त्राहि - त्राहि चिल्लाओगे ।
                     बहजाओगे    रक्त - सिंधु   में
                     तिनका न कहीं तुम पाओगे ।।

                     बन दया की भिक्षा का याचक
                     रे विलख-विलख कर आँसू भर ।
                     तेरा बल - पौरुष - हिम ढल कर
                     जहां रह जाएगा कातर स्वर ।।

                     पश्चातापो का, अश्रु - धार को
                     पी - पीकर तुम मर जाओगे ।
                     वह सर्वनाश , वह महा -प्रलय
                     जो  भूल  नही तुम  पाओगे ।।

                     अरी   रुद्राणी  ,  रणचण्डिके
                     कर गहो क्रान्ति-ध्वज फहराता ।
                     खल शोणित-शुभ सिन्दूर भाल
                     कंगन - कटार   हो  लहराता ।।

                     सब  जला  राख  संसार  करो
                     यह  भू  विवेक  से  खाली है ।
                     होगा  क्या  उपवन हरा - भरा
                     जब  दुष्ट  यहाँ का  माली है ।।

                                     रचनाकार
                            रेवती रमण झा "रमण"
                                           
     

         

मंगलवार, 13 नवंबर 2018

अश्रुपात ।। "नयनो के अविरल अश्रुपात ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                            ||अश्रुपात ||
                  "नयनो के अविरल अश्रुपात"
                                     

                    दुर्भाग्य पूर्ण , दुखमयी व्यथा
                    की,यह  विडम्बना  कैसी है ।
                    नारी   की   द्रोही  ,  है   नारी
                    फिर उसका कौन हितैषी है ।।

                   तुम भी ? दुःख देते दुखिया को
                   कर क्षितिज दृष्टि बोली रोकर ।
                   नयनो  के   अविरल   अश्रुपात
                   से , अपने आँचल को धोकर ।।

                   तुम  हो   ईश्वर , सब   समदर्शी
                   तेरे  दिल  में   जब  भेद  नही ।
                   अनजान  बने  क्यों  चुप  बैठे ?
                   जिसका  मुझको है  खेद नही ?

                   कल्पित कोई , यह कथा नही
                   ये तो ऋषि मुनि की वाणी है ।
                   रे  , जहाँ   उपेक्षित   है   नारी
                   उस घर की दुःखद कहानी है ।।

                   जब  दया  हीन  हो  जाय धरा
                   रे ,सोचो तब नाश निकट में है ।
                   अवला आँखों का अश्रुबिन्दु के
                   बीच    विश्व    संकट   में   है ।।
                   

                                   रचनाकार
                         रेवती रमण झा " रमण "
                         mob - 9997313751
                                        


      
      

chhat puja vidyapati colony jalpura gretar noida


मंगलवार, 23 अक्तूबर 2018

कोजागरा ।। मिथिला केर ई थिक विधान ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                                                                     || कोजागरा ||
                                     
शरद्      गगन     में   उगल    चान , 
लाल    कका      के    भरल   दलान
    परसि    रहल    छथि   छोटका  कका, 
पान       सुपारी      आर     मखान
                                                        भारक     भरिया    गनि   नहि सकलौ                              
                                                        व्यस्त     छलौ     कोम्हरौ   नै  तकलौ
                                                        दहिक    टाका      आइ     पठौलनि,
बड़की    काकिक       टूटल    गुमान
                          शरद......
घर     ओसारा      भरल       मिठाई,
समधिन      समधिक      भेल     बड़ाई
लटहा         चूडा      पसरल       कूड़ा,
बिना     सुपारिक      लागल        पान
                                                              शरद......
पान         सुपारी         आर            मखान 
मिथिला      केर     थिक     अतेक     महान
दुविधान         दही          अच्छत         लय
भैया      केर        आइ        भेल       चुमान
                                                               शरद......    
बरक         माय         भुजायल         तीसी 
चित्ती        कौडिक        चलल       पचीसी
समधि    समधि    में      चलल    बुझोंअली
 दूनू             रहला          एक          समान
                                                          शरद......
"रमण"     सुमन       के      सुनू     बयान
 दूटा        फोका          भेल         मखान
 मूँह     देखि      मुंगवा      परसै      छथि
 मिथिला     केर     ई     थीक      विधान
                                                        शरद......
रचनाकार
रेवती रमण झा "रमण"