dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

बुधवार, 16 जनवरी 2019

बजरंग बत्तीसी ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

     


                                        
|| दोहा ||
  वंदऊ  शत   सुत  केशरी  सुनू  अंजनी  के  लाल ।
  विद्यया बुधि आरोग्य बल दय कय करू निहाल ।।

|| चोपाई ||

1. जय  कपि  रूद्र  रूप  बजरंगी ।
 ऋषि  मुनि  देव  संत  जन  संगी ।।

2. अंजनि   पुत्र   केसरिक   नंदन ।
अति लघु रूप जगत दुःख भंजन ।।

3. बज्र  देह  दानव  दुःख  मोचन ।
देखू   नोर   भरल   दुहु   लोचन ।।

4. जय लंका विध्वंश काले मणि ।
छमु अपराध  सकल दुर्गुन गनि ।।

5. कोटि  सूर्य  सम  ओज प्रकाश ।
रोमे    रोम    ग्रह    मंगल    वास ।।

6. पूँछे  -  भुजंग  ललित  हनुमान ।
तारावलि  जते  तते  बुधि  ज्ञान ।।

7 . महाकाल  बलमहा  महामुख ।
महाबाहु    नदमहा    कालमुख ।।

8. अंजनि  पुत्र  पताल  पुर  गेलौ ।
राम  लखन  के  प्राण  बचेलौ ।।

9. पवन  पूत्र  अहाँ जाकय लंका ।
अपन  नाम  के  पिटलौ  डंका ।।

10. हयौ महाबली बल कS जानल ।
अक्षय कुमारक प्राण निकालल ।।

11. हे  रामेष्ट   काज   बर  कयलौ ।
राम  लखन  सिय  उर  में  लेलौ ।।

12. फाल्गुन सखा ज्ञान गुन सार ।
वेगि  आबि   सुनू   नाथ  पुकार ।।

13. सुनू पिंगाक्ष सुमति सुख मोदक ।
तंत्रे   मन्त्र   विज्ञानक    शोधक ।।

14. अमित विक्रम छवि सुरसा जानि ।
बिकट  लंकिनी   लेल  पहचानि ।।

15. उदधि क्रमण गुण शील निधान ।
अहाँ सनक नञी कियो बुद्धिमान ।।

16 . सीता  शोक  विनाशक  गेलहुँ ।
जा चिन्ह मुद्रिका दुहुँ दिश देलहुँ ।।

17. लक्ष्मण   प्राण  पलटि देनहार ।
कपि   संजीवनी   आनि   पहार ।।

18. दश  ग्रीव  दर्पहा  ए  कपिराज ।
रामक  आतुरे    कयलौ  काज ।।

19. कपि  एकानन  हयौ  पंचानन ।
जय   हनुमंत   जयति   सप्तानन।।

20. बिनु हनुमंत जुगुति नञी राम ।
राम कृपा बिनु नञी सुख - धाम ।।

21. जतय   अहाँ  मंगल  तेही  द्वारि ।
करुण कथा कत कहब पुकारि ।।

22. यश  जत  गाऊ  वदन संसार ।
कीर्ति योग्य नञी पवन कुमार ।।

23. प्रभु  मन  बसिया  यौ  बजरंगी ।
   कुमतिक काल सुमति केर संगी ।।

24. अगिन बरुण यम इन्द्रहि जतेक ।
    अजर - अमर वर देलनि अनेक ।।

25. रंजित   गात   सिंदूर   सुहावन ।
      कुंचित केस कुन्डल मन भावन ।।

26. जय कपिराज सकल गुण सागर ।
      युगहि चारि कपि कैल उजागर ।।

27. यमुन  चपल  चित  चारु  तरंगे ।
      जय हनुमंत सुमति सुख - गंगे ।।

28. बाली  दसानन  दुंहुँ  चलि  गेल ।
      जकर अहाँ  विजयी वैह भेल ।।

29. जनमे  सुकारथ  अंजनि  लाल ।
     राम दूत  कय   देलहुँ कमाल ।।

30. सपत गदा केर अछि कपि राज ।
    एहि दुर्बल केर करियौ काज ।।

31. सुनू कपि कखन हरब दुःख मोर ।
                        बाटे   जोहि  भेलहुँ  हम  थोर ।।                          
 32.   यौ  बलवीर  विपति  बर  भार ।
  बेगहि आबि "रमण" करु पार ।।

|| दोहा ||
प्रात काल उठि जे जपथि,सदय धरथि चित ध्यान ।
शंकट  क्लेश  विघ्न  सकल , दूर करथि हनुमान ।।

रचनाकार
रेवती रमण झा "रमण"




मंगलवार, 15 जनवरी 2019

बजरंग बत्तीसी ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                         || बजरंग बत्तीसी ||
                                        
|| दोहा ||
  वंदऊ  शत   सुत  केशरी  सुनू  अंजनी  के  लाल ।
  विद्यया बुधि आरोग्य बल दय कय करू निहाल ।।

|| चोपाई ||

1. जय  कपि  रूद्र  रूप  बजरंगी ।
 ऋषि  मुनि  देव  संत  जन  संगी ।।

2. अंजनि   पुत्र   केसरिक   नंदन ।
अति लघु रूप जगत दुःख भंजन ।।

3. बज्र  देह  दानव  दुःख  मोचन ।
देखू   नोर   भरल   दुहु   लोचन ।।

4. जय लंका विध्वंश काले मणि ।
छमु अपराध  सकल दुर्गुन गनि ।।

5. कोटि  सूर्य  सम  ओज प्रकाश ।
रोमे    रोम    ग्रह    मंगल    वास ।।

6. पूँछे  -  भुजंग  ललित  हनुमान ।
तारावलि  जते  तते  बुधि  ज्ञान ।।

7 . महाकाल  बलमहा  महामुख ।
महाबाहु    नदमहा    कालमुख ।।

8. अंजनि  पुत्र  पताल  पुर  गेलौ ।
राम  लखन  के  प्राण  बचेलौ ।।

9. पवन  पूत्र  अहाँ जाकय लंका ।
अपन  नाम  के  पिटलौ  डंका ।।

10. हयौ महाबली बल कS जानल ।
अक्षय कुमारक प्राण निकालल ।।

11. हे  रामेष्ट   काज   बर  कयलौ ।
राम  लखन  सिय  उर  में  लेलौ ।।

12. फाल्गुन सखा ज्ञान गुन सार ।
वेगि  आबि   सुनू   नाथ  पुकार ।।

13. सुनू पिंगाक्ष सुमति सुख मोदक ।
तंत्रे   मन्त्र   विज्ञानक    शोधक ।।

14. अमित विक्रम छवि सुरसा जानि ।
बिकट  लंकिनी   लेल  पहचानि ।।

15. उदधि क्रमण गुण शील निधान ।
अहाँ सनक नञी कियो बुद्धिमान ।।

16 . सीता  शोक  विनाशक  गेलहुँ ।
जा चिन्ह मुद्रिका दुहुँ दिश देलहुँ ।।

17. लक्ष्मण   प्राण  पलटि देनहार ।
कपि   संजीवनी   आनि   पहार ।।

18. दश  ग्रीव  दर्पहा  ए  कपिराज ।
रामक  आतुरे    कयलौ  काज ।।

19. कपि  एकानन  हयौ  पंचानन ।
जय   हनुमंत   जयति   सप्तानन।।

20. बिनु हनुमंत जुगुति नञी राम ।
राम कृपा बिनु नञी सुख - धाम ।।

21. जतय   अहाँ  मंगल  तेही  द्वारि ।
करुण कथा कत कहब पुकारि ।।

22. यश  जत  गाऊ  वदन संसार ।
कीर्ति योग्य नञी पवन कुमार ।।

23. प्रभु  मन  बसिया  यौ  बजरंगी ।
   कुमतिक काल सुमति केर संगी ।।

24. अगिन बरुण यम इन्द्रहि जतेक ।
    अजर - अमर वर देलनि अनेक ।।

25. रंजित   गात   सिंदूर   सुहावन ।
      कुंचित केस कुन्डल मन भावन ।।

26. जय कपिराज सकल गुण सागर ।
      युगहि चारि कपि कैल उजागर ।।

27. यमुन  चपल  चित  चारु  तरंगे ।
      जय हनुमंत सुमति सुख - गंगे ।।

28. बाली  दसानन  दुंहुँ  चलि  गेल ।
      जकर अहाँ  विजयी वैह भेल ।।

29. जनमे  सुकारथ  अंजनि  लाल ।
     राम दूत  कय   देलहुँ कमाल ।।

30. सपत गदा केर अछि कपि राज ।
    एहि दुर्बल केर करियौ काज ।।

31. सुनू कपि कखन हरब दुःख मोर ।
                    बाटे  जोहि  भेलहुँ  हम  थोर ।।                          
 32.   यौ  बलवीर  विपति  बर  भार ।
  बेगहि आबि "रमण" करु पार ।।

|| दोहा ||
प्रात काल उठि जे जपथि,सदय धरथि चित ध्यान ।
शंकट  क्लेश  विघ्न  सकल , दूर करथि हनुमान ।।

रचनाकार
रेवती रमण झा "रमण"




गुरुवार, 10 जनवरी 2019

तिलासंक्रान्ति ।। भरल चगेंरी मुरही चुरा ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                          || तिलासंक्रान्ति ||
                      " भरल चगेंरी मुरही चुरा "
                                       

उठ - उठ बौआ रै निनियाँ तोर ।
अजुका   पाबनि   भोरे   भोर ।।
पहिने  जेकियो   नहयबे  आई ।
        भेटतौ तिलबा रे मुरही लाइ ।।  उठ....

ई पावनि छी मिथिलाक पावनि
सब  पावनि   सं   बड़का  छी ।
भरल     चगेंरी      मुरही     चुरा
तिलवा   लाई   उपरका   छी ।।

उपर  देहिया  थर - थर  काँपय
        भीतर मनुआँ भेल विभोर ।।  उठ....

   चहल पहल भरि मिथिला आँगन
 अइ पावनि के  अजब मिठाई ।
आई   देत   जे   जतेक   डुब्बी
 भेटतै   ततेक   तिलबा  लाई ।।

मुन्ना   देखि  भरय   किलकारी
            जहिना वन में कोइलिक शोर ।।  उठ...

बुढ़िया   दादी   बजा   पुरोहित
छपुआ साडी   कयलक दान ।
तील चाऊर बाँटथि मिथिलानी
    एहि पावनि केर अतेक विधान ।।

     "रमण" खिचड़ी केर चारि यार संग
              परसि रहल माँ पहिर पटोर ।।  उठ......

  गीतकार
     रेवती रमण झा "रमण"
   

  


सोमवार, 7 जनवरी 2019

ये जिन्दगी भी खाक है ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                  || ये जिन्दगी भी खाक है ||
                                   

                         बदल दो तुम समाज को
                         घुँघट को अब उतार के ।
                         री ! सबल  सर्व शक्तियाँ
                         क्यो  बैठ  गई  हार के ।।

                         मानवता के  मस्तिष्क में
                         अब दानवता व्यापत है ।
                         जो ,   खामोशीयाँ    रही
                         तो ये सभ्यता समाप्त है ।।

                         है  व्यक्त   दुःसह  वेदना
                         असंख्य आत्म दाह से ।
                         आर्त  नाद  नारियो  का 
                         है  रक्त  के  प्रवाह  से ।।

                        बन्द  करो   ये  ख़ुदकुशी
                        रे  कायर  का  काम  है ।
                        ये  शक्ति  जाके  दो  उसे
                        जो  जिन्दगी गुलाम है ।।

                        री ! जलादो  उस दुष्ट को
                        अब तुम स्वयं न जल मरो ।
                        जो  आज  जुल्म  कर रहा
                        उसी  पे  जुल्म  तुम  करो ।।

                        अबला  न  तेरी   जिन्दगी
                        पुरुष  न  वो   प्रधान  है ।
                        रे  जिसमे   दया   धर्म  हो
                        वो  जिन्दगी  महान  है ।।

                        राज  चल   रहा   है  यहाँ
                        या  ये  कहूँ  मजाक  है ।
                        इस पाप के लिए स्वतन्त्र
                        ये जिन्दगी भी ख़ाक है ।।

                                  रचनाकार
                        रेवती रमण झा " रमण "
                                       



बुधवार, 2 जनवरी 2019

वेदना ।। अश्रुपात ।। रचनाकार - रेवती रमण झा "रमण"

                              || वेदना ||
                                     

                       किससे कहूँ वेदना जाके
                       मन की पीड़ा धो लेती हूँ 
                       जो नयन नीर वरसा के ।। 
                                            किससे.....  
                       बेटी   ये   मेरी   मजबूरी   
                       मुझमे तुझमे इतनी  दुरी 

                       तिल भर जहाँ विवेक नही
                       फिर क्या होगा समझा के ।।
                                            किससे.....
                       तेरी कीमत वो क्या जाने
                       अपनी बेटी  को पहचाने 

                       पुरुष-प्रधान,भ्रष्ट ये नगरी
                       मिथ्या बल पौरुष पाके ।।
                                            किससे.....
                       उसे पता क्या ? है अभिलाषा
                       नारी - जीवन  की  परिभाषा

                       बेटी तिल - तिल मै तो हारी
                       मूढो को  सब समझा के ।।
                                             किससे.....
                       हर घर की  जो  रोती माता
                       चुप क्यो बैठे भाग्य विधाता

                       मेरे  अपने   ही   खुश  होते 
                       मुझको रे आज जला के ।।
                                              किससे.....    
                       उसका भी होगा मन-मर्दन    
                       नीची  होगी  उसकी  गर्दन

                       बनेगी अबला रे रण चण्डी
                       जो घर घर विगुल बजाके ।।
                                               किससे.....
                       दानव अब भी कहना मानो
                       उस नारी शक्ति को पहचानो

                       उस  ताप  में  जाके  जलोगे
                       तुम  जीवन  से  घबरा के ।।
                                              किससे.....

                                    रचनाकार
                           रेवती रमण झा "रमण"