dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 17 अक्तूबर 2019

लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना--- ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                        ||   दियावाती   ||                   

 Male -                 चारूकात चकमक दीप जरैया
                        जहिना    पसरल     भोर   रे ।
                        लक्ष्मी ठारि हँसै छथि खल-खल
                        देखू     अंगना      मोर     रे ।।

   Female -    एक  वर्ष  पर  आयल  पावनि
                        मनुआँ     भेल     विभोर    रे

  Male / female -    लक्ष्मी ठारि हँसे छथि खल-खल
                                  देखू     अंगना      मोर     रे ।।
                     
                      पसरल दिया कतारे सभतरि
                      परहित      काज     करैया ।
                      अपन  गाते  सतत  जराकय
                       जग   में   ज्योति   भरैया ।।
                      अधम-अन्हरिया भागल चटदय
                       धरमक  भरल   इजोर  रे ।।
                                          लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---
                      नीपल आँगन , अडिपन ढयौरल
                      चौमुख  दीप कलश  पर  साजल ।
                      छितरल चहुँ दिश आमक पल्लव
                      सिन्दूर ठोप पिठारे लागल ।।
                      आँगन अनुपम रचि मिथिलानी
                      लाले     पहिर    पटोर   रे ।।
                                        लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---   
                       एक दन्त मुख वक्रतुण्ड छवि   
                       गौरी       नन्दन         आबू ।    
                       दुख  दारिद्रक  हारणी  हे  माँ     
                       ममता      आबि     देखाबू ।।  
                      अति आनन्दक लहरि में टपटप
                      "रमणक" आँखि में नोर रे ।।
                                       लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---
                                  गीतकार
                       रेवती रमण झा "रमण"

शनिवार, 12 अक्तूबर 2019

chalu dekhai lel

सिनेमा के रूप आब बहुत बदैल गेल, ऐ सेटेलाइट युग मे सिंगल थिएटर सब के व्यवसाय बंद हैवाक कगार पर ऐ। PVR स आव सिनेमा उद्योग ठाढ ऐ। LOVE YOU दुल्हिन पहिला मैथिली सिनेमा ऐ जे अपन प्रदर्शन के शुरुआत PVR स क रहल ऐ। अहाँ सब स आग्रह जे 18,19आ 20 Oct. क दिल्ली के प्रशांत विहार आ विकास पूरी मे 3स6 सिनेमा देखे जरूर जाय।
आब पूछव जे "LOVE YOU दुल्हिन " देखइ लेल किएक कियो मैथिल जेता त नीचा किछु खास बिंदु पर गौर करू।
१.बाढ़ मिथिलाक सनातनी समस्या ऐ। ई विपदा के जावे देखव नै तावे निदान हेतु जनमानस के मन मे आंदोलन हेतु प्रेरणा नै भेटत । कने देखियौ जे जकरा पर बीतइ छै ई विपदा त की होइ छै।
2. ग्रामीन जीवन मे मन्नूखक संग मालजाल के केहन संबंध होईत छै आ ओ हम मनुष्य हेतु कि की क सकैत ऐ जे पर्यावरण के समस्याक युग मे एकर महत्ता ऐ मूवी मे देखे के अवसर भेटत जे अहम ऐ।
3.मिथिला मे कई युग स किछु कुप्रथा प्रचलित ऐ जे हमरा समाज लेल कलंक ऐ ओकर सहज निदान देखवाक अवसर भेटत।
4. मिथिलाक संस्कृतिक परम्परा के मीठास भेटत जे आज पश्चिमी संस्कृतिक होर मे हम सब अपन जैर स कैट क बकाटा गुड्डी भेल जा रहल छी।.
5. पारिवपरीक ईर्ष्या, द्वेष के दुष्प्रभाव स परिवार के ज्ञान भेटत आ पारिवारक मूल्य के पता चलत जे बेसी जरूरी ऐ जीबन हेतु
6. बिल्कुल पैसा वसूल फिल्म जे मनोरंजन स भरपुर ऐ, संगीत मन के मुग्ध करत आ एक्शन, इमोशन स भरल ऐ जे सम्पुर्ण परिवार संग हॉल मे देखि सकैत छी।
त जा रहल छी ने "लव यू दुल्हिन" देखे?                                               shubh narayan jha 

मंगलवार, 1 अक्तूबर 2019

क्यो कदम रुकता हमेशा ।।

                              " गजल "
                                      


       जिन्दगी पीती रही , रोज सुबहोशाम तक ।
       क्यो कदम रुकता हमेशा, चलते चलते जाम तक ।।

       लोग कहते,वो शराबी, कहाँ पीके जा रहा
       कुछ तो हँसता देखकर , कुछ तरस मुझ पे खारहा ।।

       मयकसी की जिन्दगी,मुझे ले गई बेनाम तक ।।
                                                                    क्यो ....
       अश्क का हर घूँट पीकर, बेबसी में सो गया
       अपनी मस्ती ,अपना आलम,में पाया कुछ खोगया

       लड़खड़ाता हर कदम, हर कोशिसे नाकाम तक
                                                                    क्यो ....
       हर घड़ी , हर पल हमेशा , ठोकरे खाता रहा
       बजह से , हर बेबजह में , हरकदम जाता रहा 

       मधुशाला का एक प्याला , बहुत है बदनाम तक
       क्यो कदम रुकता.......

                               गीतकार
                      रेवती रमण झा "रमण"

मंगलवार, 24 सितंबर 2019

हे अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ।।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

               || अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ||
                                      


                नवोरूप धरि आहे अयलौ नवदुर्गे
                नवो दिन कयलहुँ वास ।
                हे अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ।।

                जग कल्याणी आहे दुःख हरनी
                जगत जननी  आहे सुख करनी

                ममतामयी मैया कोना  बिसरबै
                एक अहींक अछि आश ।
                हे अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ।।

               चहल पहल मैया नवो दिन केलिअई
               अपन कृपा चहुँ दिश बरसेलिअइ

               अपन  दया  केर वर वारिधि  सँ
               पूरल  सबहक  आश ।
               हे अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ।।

               भव विपदा सँ जीवन घायल
               देखू "रमण" शरण अछि आयल

               महिषासुर  मर्दिनी  मैया पुनि
               आयब आसिन मास ।
               हे अम्बे आइ कीय भेलौ उदास ।।

                               गीतकार
                     रेवती रमण झा "रमण"