dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शनिवार, 25 मार्च 2017

रेवती रमण झा " रमण " रचित - चालनि दुसलक सूप -----

                                     
   ॥  चालनि  दुसलक सूप   ॥ 

आँखि  पसारी अहाँ  सब देखु 
बात     कहैत    छी   सांच  । 
ज्ञानी  मनुष्य आब  बसुधा पर 
रहल     हजार    में     पांचे   ॥ 
रहल      हजार       में    पांचे 
सेष   जन   ज्ञान   छीन   जे  । 
अछि   दुनु    जन    विकलांग  
अंग     आ   ज्ञान   हीन  जे  ॥ 
ज्ञान हीन  नञि  बुझय  बुझौने 
अछि       अतवे    टा    खेद  । 
ज्ञान     हीन  आ अंग  हीन  में 
सुनू     कतेक    अछि     भेद   ॥ 
नीति कहैत छी  ज्ञान हीन जन 
मनुषो         बड़दे         थीक  ।
अंग हीन  त भला मनुष्य  अछि 
ज्ञान      हीन     सँ       नीक  ॥ 
अंग   हीन    निज  अंगक  पीड़ा 
अपनहि     तन   में     पाबय  । 
ज्ञान हीन जन  सुर संतन  मुनि 
सज्जन      ताकि     सताबय   ॥ 
से जन लखि  भरि मोन  हंसै छथि 
हमर      देखि      कय       रूप    । 
किन्तु       लगैया    देख   ओहिना 
जेना      चालनि   दुसलक  सूप  ॥ 

रचैता  
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


शुक्रवार, 10 मार्च 2017

होली खेलथि नन्दलाल - होली गीत


होली       खेलथि       नन्दलाल 
राधा   मिलि    गोपी    के   संग । 
भरी - भरी  मारथि वर फिंचकारी 
मचल       अछि       हुड़दंग   ॥  
                       होली खेलथि -----
गाओल     होरी   , रास    जोगीरा 
बाजय    डंफा     ढ़ोल    मजीरा  । 
आ          बाजय         मृदंग   ॥ 
                        होली खेलथि------
ग्वाल  बाल  जान  धूम मचाबय 
रंग    गुलाल   चहु    बरसाबय 
 मारय    पिचकारी    अंग    ॥  
                        होली खेलथि ------
"रमण " पीबि  भांग  रंग रसिया 
भेटल   आइ   चारु  मन  बसिया 
बसुधा       रंग      विरंग  ॥ 
               होली खेलथि--------

मंगलवार, 7 मार्च 2017

यद् राखब - मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर


 हम सब एक बेर फेर जोर लगाबी , मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर राइज़िंग स्टार बनाबय लेल  , वोट जरूर करब।
जय मैथिल - जय मिथिला  

https://www.facebook.com/pankajji13/videos/1388511897866523/

सोमवार, 6 मार्च 2017

प्राणप्रियतम सुनू - होरी गीत



प्राणप्रियतम  सुनू , जा रहल छी कहाँ 
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में । 
छी  मातल   अहाँ  , मस्त  हमहुँ   सुनू 
पूर्ण  यौवन  हमर  ई अहाँक संग में  ॥  
                     प्राणप्रियतम  सुनू  -----
ई अवीर  कर -  कमल सँ  मलू  गाल पर 
आइ  गाबू   ई    होली ,  बिना  ताल  पर 
छन्द  स्वर लय  हेरा  कउ  परा  कउ चलु 
तजि दीय  लाज सबटा  ई हुड़दंग  में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  -----
नेत्र   अछि   दुनू   देखु ,  शराबी  जेकाँ 
बकि  रहल  छी  ई  पत्रक जबावी जेकाँ 
अछि   पिपासी  अहाँके    दासी   प्रिय 
भरि  लीय आइ  हमरा , अहाँ  अंग में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  ------
रंगल  अछि  वसुधा , रंगल अछि गगन 
ई  अहाँक  रंग  रंगल , हमर  देखु  मन 
रंग   होरी   के   झोरी   लेने   हाथ    में 
"रमण " देखू  पीने  मस्त अइ भंग  में  ॥ 
                      प्राणप्रियतम  सुनू ------
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में ।   
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

एक कॉल पिया के नाम - जौ फगुआ में नञि आयब तउ -


एकटा  बात  कहै  छी  प्रियतम 
देबैटा      कने     ध्यान      यौ  । 
जौ   फगुआ  में नञि आयब तउ 
हम    कहब     बैमान     यौ  ।।  
                   जौ  फगुआ  में ---- 
ओहि  दिन अहाँक  बाट  हम ताकब 
रंगक   बाटी   घोरि  कय  राखब  । 
अबितहि    लाल   अबीरक    हाथे  
अहाँक    करब    सम्मान   यो   ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
भंग    तरंग     में   होरी     गायब 
रास - रंग    हुड़दंग    मचायब  । 
हे         प्रानेश्वर     प्राण       नाथ 
अछि   अते  हमर   अरमान  यौ  ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
अकर   बाद    की   लीखू  स्वामी 
अहाँ    त   छी   खुद   अंतर्यामी । 
"रमण "   करू   राधा  पथ  हेरथि 
कुंज    भवन   में   श्याम   यौ  ॥ 
              जौ  फगुआ   में ----
   रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751