dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शनिवार, 9 सितंबर 2017

हनुमान जी के गीत

हनुमान जी के गीत 
मैथिलि हनुमान चालीसा से 



सुनलउ    सब   पर    ध्यान    धरैछी 
यौ  कपि , हमर ने सुधि  अहाँ  लेलो  | 
क्रन्दन     करि -  करि  केसरी  नंदन 
 निसदिन      नोर      नहय      लऊ ||  
                   सुनलउ - --यौ  कपि--
करुणाकर     कपि   दया  के  सागर 
सबहक़        मुहें        सुनै       छी  | 
नयन   निहारैत    वयस  बीत  गेल 
किऐ    नञि    अहाँ   जनै     छी   || 
सबहक  काज  दौडि   कय   कयलहुँ 
हमर       बिसरि     किय      गेलौ  
               सुनलउ - -- यौ  कपि--
केहन   कठोर   बनल   बैसल   छी 
बुझि      कउ      सब      अंजान  | 
की  हम  दास  अहाँ   के  नञि  छी 
  अतबे          कहु         हनुमान   ||    
पवन       पूत  , हे   गुण   निधान 
हम     कते      निहोरा    कयलौं  
            सुनलउ - --  यौ  कपि--
शंकर   सुवन हे   गगन   विहारी  
फांदि       गेलौ    अहाँ      लंका | 
विद्यासागर  ,  बुधि   के   आगर 
  सभतरि      बाजल            डंका || 
"रमण " व्याथा चित  उझलि देलऊ 
अहाँ     तैयो    नञि      पतिएलो  || 
 सुनलउ - -- यौ  कपि--
रचित -
रेवती रमण झा "रमण "

बुधवार, 6 सितंबर 2017

पितृ तर्पण विधि:

  तर्पण मन्त्र -TARPAN MANTRAS

आवाहन: दोनों हाथों की अनामिका (छोटी तथा बड़ी उँगलियों के बीच की उंगली) में कुश (एक प्रकार की घास) की पवित्री (उंगली में लपेटकर दोनों सिरे ऐंठकर अंगूठी की तरह छल्ला) पहनकर, बाएं कंधे पर सफेद वस्त्र डालकर  दोनों हाथ जोड़कर अपने पूर्वजों को निम्न मन्त्र से आमंत्रित करें 

'ॐ आगच्छन्तु मे पितर एवं ग्रहन्तु जलान्जलिम'  
ॐ हे पितरों! पधारिये तथा जलांजलि ग्रहण कीजिए।  

तर्पण: जल अर्पित करें 
निम्न में से प्रत्येक को 3 बार किसी पवित्र नदी, तालाब, झील या अन्य स्रोत (गंगा / नर्मदा जल पवित्रतम माने गए हैं) के शुद्ध जल में थोडा सा दूध, तिल तथा जावा मिला कर जलांजलि अर्पित करें। 

पिता हेतु  --

(गोत्र नाम) गोत्रे अस्मतपिता पिता का नाम शर्मा वसुरूपस्त्तृप्यतमिदं तिलोदकम (गंगा/नर्मदा जलं वा) तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः।
------. गोत्र के मेरे पिता श्री वसुरूप में तिल तथा पवित्र जल ग्रहण कर तृप्त हों।  
तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः।

उक्त में अस्मत्पिता के स्थान पर अस्मत्पितामह पढ़ें  --

पिता के नाम के स्थान पर पितामां का नाम लें ----
माता हेतु  तर्पण  - 
(गोत्र नाम) गोत्रे अस्मन्माता माता का नाम देवी वसुरूपास्त्तृप्यतमिदं तिलोदकम (गंगा/नर्मदा जलं वा) 
तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः।
 ........... गोत्र की मेरी माता श्रीमती ....... देवी वसुरूप में तिल तथा पवित्र जल ग्रहण कर तृप्त हों। तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः तस्मै स्वधा नमः। 
निस्संदेह मन्त्र श्रद्धा अभिव्यक्ति का श्रेष्ठ माध्यम हैं किन्तु भावना, सम्मान तथा अनुभूति अन्यतम हैं।

जलांजलि पूर्व दिशा में 16 बार, उत्तर दिशा में 7 बार तथा दक्षिण दिशा में 14 बार अर्पित करें 

______________________________________________________________________________ 
संक्षिप्त पितृ तर्पण विधि:
 पितरोंका तर्पण करनेके पूर्व इस मन्त्र से हाथ जोडकर प्रथम उनका आवाहन करे -
ॐ आगच्छन्तु मे पितर इमं गृह्णन्तु जलान्जलिम ।

अब तिलके साथ तीन-तीन जलान्जलियां दें -
(पिता के लिये)
अमुकगोत्रः अस्मत्पिता अमुक (नाम) शर्मा वसुरूपस्तृप्यतामिदं तिलोदकं (गंगाजलं वा) तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः, तस्मै स्वधा नमः ।
(माता के लिये)
अमुकगोत्रा अस्मन्माता अमुकी (नाम) देवी वसुरूपा तृप्यतामिदं तिलोदकं तस्यै स्वधा नमः, तस्यै स्वधा नमः, तस्यै स्वधा नमः ।
जलांजलि पूर्व दिशा में 16 बार, उत्तर दिशा में 7 बार तथा दक्षिण दिशा में 14 बार अर्पित करें 

मंगलवार, 5 सितंबर 2017

हनुमान जी के आरती

  (हनुमंत पचीसी अहि  लिंक  से पढू आ सुनू )
https://apangaamapanbat.blogspot.in/2017/07/blog-post.html


 हनुमान जी के आरती  

बजरंगबली         के      आरती 
आइ       उतारू     ध्यान    सँ  | 
नञि  बुझलक दुख  हमर कियो 
जे , आइ   कहब   हनुमान सँ  || 
   बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
 टरल बिकट वर - वर  पथ -कंटक 
                               दया  दृष्टि  जेहि  देलों  यों  | 
                               रघुनन्दन  दुख  भंजन के दुख 
                               काज सुगम  सँ  कयलौ  यौ  || 
                               जा पताल  अहिरावण मारल 
                                बज्र गदा के वान सँ -
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                               लखनक प्राणे , पलटि  आनि कय 
                                राम हीया  हुलसइलौ यौ  | 
                                कालक  गाले  जनक  नंदनी 
                                लंका   जाय   छोरयलौं  यौ  || 
                              जहिना  बीसभुज  के निपटयलों 
                               अपनेही बुधि  बल ज्ञान  सँ || 
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                               ज्ञान ध्यान रहि , मृत जीवन सन 
                               संत विभीषन छल नरक तल में  | 
                               लंका के  ओ  राजा  बनि  गेल 
                               अहाँक दया सं एक पल में || 
                              "रमणक " काज  सुतारु  ओहिना 
                               अपन कृपा  वरदान सँ  || 
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                                         रचित - 
                               रेवती रमण झा "रमण "

सोमवार, 4 सितंबर 2017

हनुमान जी के आरती

 आरती      उतारी   
  यौ  अंजनि के लाला  | 
   राम   नाम  अमृत के 
पिवि  गेलौ प्याला | | 
     आरती  उतारी -- यौ  अंजनि ---
लाल देह लाल ध्वजा , 
लाले   लंगोटा 
लाल वदन  हाथ अछि ,
 लाल अछि  सोंटा 
लाले नयन लाल -
 तिलक गले माला  || 
आरती  उतारी -- यौ  अंजनि ---
दीन  हितकारी 
हे पापक निकंदन 
पवन पूत राम दूत 
केसरिक  नंदन 
अहाँ  सनक  कियो नञि  
एकौ  मतवाला || 
आरती  उतारी -- यौ  अंजनि ---
शंकर सुवन कपि 
चंचल  चारु 
"रमण  " सरण में , यौ 
नयना  निहारु 
कान्धे  जनेऊ  मुंज 
केश घुँघराला  ||
 आरती  उतारी -- यौ  अंजनि ---

रचित - रेवती रमण झा '' रमण "

http://apangaamapanbat.blogspot.in/2016/11/blog-post.html

मैथिलि हनुमान चालीसा अही लिंक सं पढू आ सुनु