dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

छैठ


 || छैठ ||  

लू  सजि  सखी घाट लय  ढाकी  
 छैठक     कोसिया          कुरवार  | 
सजल अछि झुण्डक झुण्ड कतार 
कोकिल     कण्डे  सुमधुर    वाणी  
छैठिक    गीत  गाबैथ  मिथिलानी 
नव    अँचार    पर  नाचय   नटुआ 
घुँघरु           के            झनकार || 
                        सजल  अछि -------
जेहन जिनकअछी कबूला पाती 
घाटे  भरल   तेहन  अछि   पाँती 
अस्सी  बरखक  बुढ़ियो  जल में  
कोनियाँ        लेने           ठार  ||  
                     सजल  अछि ---------
ठकु   आ  भुसबा     लड़ू     पेडा 
पान   फूल    फल   पीयर   केरा 
हाथी  ऊपर सजल अछि  दीया 
ढाकी        में         कुसियार  ||  
                     सजल  अछि -------
हे    दिनकर , हे     राणा    मैया  
हमर  कियो  नञि  नाव  खेबैया 
बीच    भवँर   में उबडूब    जीवन 
अहिं        "रमणक "   पतवार  || 
             सजल  अछि -----
 चलू  सजि  ---छैठक  कोसिया ---
                       सजल  अछि -------

रचित - 
रेवती रमण झा "रमण "

शुक्रवार, 20 अक्तूबर 2017

भ्रात - दुतिया

                       
                        ||     भ्रात- दुतिया   ||
                       


  उठि अन्हरौखे   आँगना   नीपलिअई
सब भरदुतिया के विध ओरिएलिअई

भैया अहन कठोर कीय भेलिअई यौ
नै         एलिअई          यौ  ।।
                                  भैया........
मंगितौ  ने  साड़ी,  ने  मंगितौ रुपैया
अबितौ, नयन भरि देखितौ यौ भैया

महल  बुझै  छी, ई  टुटली मरैया के
की    जानि   आहाँ  डेरेलिअई  यौ
नै   एलिअई यौ       ।।              
                                भैया..........

कत  सिनेहे  सॅ  भानस   केलिअई
छाल्ही भरल दूध छाँछ पौरलिअइ
तरल परोड़ , तरल पात कौआ     
तिलकोरो आहाँ लय तरलिअइ यौ
नै एलिअइ यौ।।                      
                              भैया..............

भरि पोख कानि-कानि नोरे नेराओल
नहिरा वियोग कुदिन-दिन गाओल   
उलहन भरैया ननदि सौतिनियाँ।     
दियौरो के ताना सूनलिअई यौ।      
नै एलिअइ यौ।।                         
                         भैया..............

किरण डूबैत धरि बाटे जोहलिअइ
     सरिसो के फूल जेकाँ लोटि खसलिअइ
"रमण" मलान भेलौ यौ भैया          
       माय बिनु नैहर बुझलिअइ यौ              
नै एलिअइ यौ।।                       
                             भैया...........      

रचनाकार


            
रेवती रमण झा " रमण "
गाम- जोगियारा पतोंर दरभंगा ।

फोन - 09997313751.
                         
                   



                       

बुधवार, 18 अक्तूबर 2017

दीयावाती

|| दीयावाती ||

मनुहारी       अति    दिव्य 
सघन  वर  दीपक माला  | 
बाल     वृन्द  बहु  ललित 
चारु    चित चंचल बाला || 
आयल  उतरि  अपवर्ग धरा 
रे, चित   चकित चहुँ ओर  | 
फुल झरी झरि रहल लुभावन  
मन       आनंन्द    विभोर  || 
हुक्का   लोली  बीचे  अड़िपन 
 चमकि  उठल  अच्छी अंगना | 
 मृगनयनी  चहुँ चारु दीया लय 
रून - झुन   बाजल  कंगना || 
सिद्धि  विनायक मंगल दाता  
भक्ति    भाव       स्वीकारु  | 
अन - धन  देवी लक्ष्मी मैया 
"रमणक " दोष  बिसारू || 
लेखक - 
रेवती रमण  झा "रमण" 


मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

दियाबाती गीत

|| दियाबाती  गीत ||   

मंगल    दीप     चहूँ   दिस   साजल 
पग -   पग        पर       अभिराम  | 
चौदह     वरस    बनवास  बिताकय 
आइ      एला       मोर      राम - - || 
                 देखू   आइ  एला --- 

दीपहि      दीप     कतारे      लागल  
चट- दय    जेना   अन्हरिया   भागल 
  जगल जन - जन , पुलकित अछिमन  
 सभतरि         देखू        सुख   - धाम | 
देखू     एला     लखन    सीया    राम  || 
                   देखू  आइ  एला --- 
अड़िपन  उपर   कलश   शुभ  साजल 
ढ़ोल   मृदंग     ख़ुशी    के       बाजल  
 मंगल   गीत   सखी   मिलि   गाओल 
मुदित          अयोध्या            धाम  | 
देखू      एला   लखन  सिया     राम || 
       देखू  आइ  एला --- 
सब       शोक       संतापे       ससरल 
हास्य    विनोदे    सभतरि     पसरल 
"रमण "   मुदित मन नाचय  पुलकित 
शोभा        निरखि              ललाम  | 
देखू      एला   लखन  सिया     राम || 
                    देखू  आइ  एला --- 
रचित -
रेवती रमण झा "रमण "

गुरुवार, 12 अक्तूबर 2017

दियावाती

|| दियावाती || 


चारूकात  चकमक  दीप  जरैया 
जहिना      पसरल    भोर   रे  | 
लक्ष्मी ठारि हँसै छथि  खल-खल 
देखू     अंगना     मोर       रे  || 
पसरल  दीया   कतारे  सभतरि 
परहित    काज   करैया     यौ | 
अपन     गाते  सतत   जराकय 
जग   में  ज्योति  भरैया   यौ || 
अधम - अन्हरिया भागल चटदय 
धरमक    भरल      इजोर     रे  || 
                       लक्ष्मी  ठारि--  देखू   अंगना --
नीपल   आँगन  ,अड़िपन ढोरल 
चौमुख बारि कलश पर साजल  | 
 छितरल  चहुँ दिश  आमक पल्लव 
सिन्दूर    ठोप  पिठारे   लागल  || 
आँगन  अनुपम रचि  मिथिलानी 
लाले      पहिर     पटोर          रे || 
                   लक्ष्मी ठारि-- देखू   अंगना --
एक  दंत   मुख  वक्रतुण्ड  छवि  
गौरी      नन्दन      आबू      ने  | 
दुख    दारिद्रक    हारणी   हे  माँ 
ममता    आबि    देखाबू       ने  || 
अति आनंदक लहरि में टपटप देखल 
"रमणक "    आँखि   में  नोर   रे ||
                          लक्ष्मी ठारि-- देखू   अंगना --
रचित - 

रेवती रमण झा " रमण"