dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

रविवार, 17 फ़रवरी 2019

कि सर रS रS होली में ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                 || कि सर रS रS रS होली में ||
                                    

                     गोड़िया के फाटल बा चोली
                     कि सर रS रS होली में ।
                     करै बुढ़वा सं बुढ़िया ठिठोली
                     कि सर रS रS होली में ।

                     बाजत  ढोल   मृदंग  मजीरा
                     डम्फा बजा के गाबै जोगीरा

                     अँखिया से चली    गेलै  गोली
                     कि सर रS रS होली में ।

                     भंगिया पी के यौवन रस जागे
                     फागन में बुढवो जे देवरा लागे

                     चलै  रंग  गुलाल   कि  टोली
                     कि सर रS रS होली में ।

                     बसै परदेश , मोर रंग रसिया
                     कैसन बेदर्दी रे मोर मन बसिया

                     "रमण"   सजाके    रंगोली
                      कि सर रS रS होली में ।

                                  गीतकार
                        रेवती रमण झा "रमण"
                                      

शुक्रवार, 15 फ़रवरी 2019

फागुन में ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                           || फागुन में ||
                                      

                   ग्वाला    के       भैया    कन्हैया
                   मधुवन     में     मुरली    बजैया
                   नै        फगुआ         बिसरबैयौ
                                                  फागुन में....
                  सावन भदोइया के रंग वरसायब
                 हिहि मिलि कान्हा संग होली गायब

                 फगुआ    के      रंगल     रंगौआ
                 अवीर  झलकौआ
                 नै फगुआ.......

                 होली    में     हुड़दंग    मचायब
                 नटनागर    के    नाच   नचायब

                 राधा  के   सुधि   बुधि  चोरौआ
                 गोपी    के      दिल     धरकौआ
                 नै फगुआ बिसरबैयौ , फागुन में...

                 बाजत    ढोल    मृदंग    मजीरा
                 गामक  बुढ़वा    गायब  जोगीरा

                 मटकी   के     माखन    चोरौआ
                 मधुवन     में        गाय    चरौआ
                 नै     फगुआ        बिसरबै     यौ
                                                         फागुन में...
                 राधा"रमण" चित मोहै मन बसिया
                 खेलय   आजु   होली   रंग  रसिया

                 मुख           ब्रह्माण्ड         बसैया
                 यशोदा     के     लाला     कन्हैया
                 नै          फगुआ          बिसरबैयौ
                                                       फागुन में.....

                                     गीतकार
                           रेवती रमण झा "रमण"
                                         


गुरुवार, 7 फ़रवरी 2019

एक कॉल पिया के नाम ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                        एक कॉल पिया के नाम
                                       
एकटा बात कहै छी प्रियतम
देबैटा   कने     ध्यान   यौ ।

जौ फगुआ  में  नै आयब त
हम   कहब   बैमान   यौ ।।

हर साल आबै अगिलगुआ
विरह व्यथा तड़पाबै फगुआ

मोने   बाँटि  कतेको  राखी
     जरय सब अरमान यौ ।। जौ...

       ओहि दिन आहाँक बाट हम ताकब
रंगक बाटी घोरि कय राखब

अबितहि लाल अविरक हाथे
        आहाँक करब सम्मान यौ ।। जौ...

अकर बाद  की  कहू स्वामी
आहाँ त छी  खुद अंतर्यामी

"रमण" करू राध पथ हेरय
          लटकल अही पे प्राण यौ ।। जौ..

गीतकार
रेवती रमण झा "रमण"

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2019

मैथिली कव्वाली ।। इश्क इंजन ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                        ||मैथिली  कव्वाली ||    
                                       
"शेर"
ऋतुराज   वसन्तक   यौवन   पर
तू उछल  एना  नै  कुसुम कली ।
कुम्हलायल कमल पर भ्रमर एक
घुरि कय नै  ताकतौ  गै पगली ।।

बात   बूझल  करू  ,  यै  हँसू  नै   एना
जाल प्रेमक अइ पसरल फॅसा लेत यै ।
इश्क    इंजन   लगैया    अवण्डे  जेकाँ
 चट भगा,पट दय चित में बसा लेत यै ।।
                                           बात बूझल....
सुभांगी      सुकन्या      सुनयना    सुनू
घोर  सावन  घटा   के   छटा  छी  अहाँ 
चारु चितवन के उपवन  सुखेलै सभक
   बून्द  वारिस  के  सबटा  चुरा  लेत  यै ।। 
                                               बात बूझल....
मन  पागल  पतंग    सनक  भेल  अइ
डोर   ज्ञानक     हाथे    सम्हारु   अहाँ
    एहि अन्हरायल चित पर अइ काबू ककर
    रस  भ्रमर  पाबि  पागल  बना  देत यै ।।
                                                   बात बूझल....
 ई  उमंगक  लहरि  में  ठहरि  जाउ  यै
  हमसफर ई"रमण"चित भ्रमित नै करू
प्रस्फुटित ई कली जँ समय सं होयत
चारु मकरंद रग - रग बसा देत यै ।।
                                                 बात बूझल....
     गीतकार
      रेवती रमण झा "रमण"