dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 17 अक्तूबर 2019

लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना--- ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                        ||   दियावाती   ||                   

 Male -                 चारूकात चकमक दीप जरैया
                        जहिना    पसरल     भोर   रे ।
                        लक्ष्मी ठारि हँसै छथि खल-खल
                        देखू     अंगना      मोर     रे ।।

   Female -    एक  वर्ष  पर  आयल  पावनि
                        मनुआँ     भेल     विभोर    रे

  Male / female -    लक्ष्मी ठारि हँसे छथि खल-खल
                                  देखू     अंगना      मोर     रे ।।
                     
                      पसरल दिया कतारे सभतरि
                      परहित      काज     करैया ।
                      अपन  गाते  सतत  जराकय
                       जग   में   ज्योति   भरैया ।।
                      अधम-अन्हरिया भागल चटदय
                       धरमक  भरल   इजोर  रे ।।
                                          लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---
                      नीपल आँगन , अडिपन ढयौरल
                      चौमुख  दीप कलश  पर  साजल ।
                      छितरल चहुँ दिश आमक पल्लव
                      सिन्दूर ठोप पिठारे लागल ।।
                      आँगन अनुपम रचि मिथिलानी
                      लाले     पहिर    पटोर   रे ।।
                                        लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---   
                       एक दन्त मुख वक्रतुण्ड छवि   
                       गौरी       नन्दन         आबू ।    
                       दुख  दारिद्रक  हारणी  हे  माँ     
                       ममता      आबि     देखाबू ।।  
                      अति आनन्दक लहरि में टपटप
                      "रमणक" आँखि में नोर रे ।।
                                       लक्ष्मी ठारि--देखू अंगना---
                                  गीतकार
                       रेवती रमण झा "रमण"

कोई टिप्पणी नहीं: