dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

मंगलवार, 12 जून 2018

कृषि-गीत - रेवती रमण झा " रमण "

     || कृषि - गीत ||
                                       



  एहिवेर  उपजा   सं  भरबै   बखारी ।
    धैरज  धरु   गोरी   मंगा  देब  सारी ।।

   गरदनि में सोना क सिकरी गदायब ।
    बाली गढ़ायब धनी बेसरि गढ़ायब ।।

    अंग  अंग सोनाक  छारि देब  गहना ।
       अंगना  चलब  धनी  तनके  निहारी ।।
         धैरज धरु-------------------------------

           खेत - खेत   उमरल   सोनरा  नगीना ।
                 देशक   ई  धन   किसानक   पसीना ।।

                 माटि    तिलक   तन   माटिक   पूजा ।
                 कमलक  फूल  हाथ  खुरपी कोदारी ।।
                 धैरज धरु -------------------------------

                 खल - खल    धरती    देखू    हँसैया ।
                 खेतक   आरि   धुर   लक्ष्मी   बसैया ।।

                 उठू  किसान  भैया  चहकल  चिड़ैयाँ ।
                 सुरुज  किरण  केर  खोलल  पेटारी ।।
                 धैरज धरु -------------------------------

                 ठीके  दुपहरिया में हर  जोति आयब ।
                 आहाँ  के देखि धनी धाम सुखायब ।।

                 शीतल  जल  आनि भोजन  करायब ।
                "रमण" बैसब  धनी बेनियाँ के झारी ।।

                                    गीतकार
                           रेवती रमण झा " रमण "
                                         
   

                 

              

कोई टिप्पणी नहीं: