dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 3 मई 2018

कुमति हरण करू हे अम्बे ।। गीतकार - रेवती रमण झा " रमण "

                 || कुमति हरण करू हे अम्बे ||
                                       


 बुद्धि बल सबल करू जग जननी
 कुमति   हरण   करू   हे   अम्बे ।
 विद्या  बुद्धि   विनय  वर  वारिधि 
 विश्व विदित छी जगदम्बे ।।  बुद्धि.....

                        चंचल   हंस   उपर   कमलासिनी
                        सिन्धु    मध्य    बिचरै    छी  ये ।
                        श्वेताम्बर   विधु    वदन    मनोहर
                        जन मन ज्योति भरैछी ये ।। बुद्धि......

 बीच    भँवर   में    उबडुब    जीवन
 माँ        पतवार       सम्हारु      ने ।
 एक   आश    विश्वास    आहाँ    के
 पातकी      जीवन       तारु     ने ।।


                        दुर्गम  बाट  दुसह  जीवन  अछि
                        दया     दृष्टी     माँ     डारु   ये ।
                       "रमण" चरण सरसिज चित चारु
                         भक्त   ने   अपन   बिसारु  ये ।।

                                    गीतकार
                        रेवती रमण झा " रमण "
                                       

                                    

कोई टिप्पणी नहीं: