dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शनिवार, 29 अप्रैल 2017

बजरंग -विनय , मैथिली हनुमान चालीसा से

          बजरंग -विनय 













बहक  काज  सुगम सँ कयलो 
हमर   अगम    कीय  भेलै  यौ  | 
रहलौं   अहिंक  शरण में हनुमंत 
जीवन   कीय  भसिअयलै    यौ  || 
          सबहक   ----हमर ---   २ 
क़डीरिक  वीर सनक  जीवन ई 
मंद   बसात    नञि झेलल  यौ  | 
हम दीन , अहाँ   दीनबन्धु  छी 
तखन  कीयक  अवडेरल  यौ   || 
         सबहक   ----हमर ---   २ 
अंजनी लाल , यौ  केशरी  नंदन 
जग  में कियो  अपन  नञि यौ  | 
एक  आश ,  विश्वास   अहाँक  
वयस   हमर   झरि  गेलै  यौ  || 
        सबहक   ----हमर ---   २ 
मारुति  नंदन , काल  निकंदन 
शंकर  स्वयम   अहाँ   छी  यौ  | 
"रमण "क  जीवन करू सुकारथ 
दया  निधान  कहाँ   छी   यौ 
सबहक   ----हमर ---   २ 
      रचित -
 रेवती रमण झा "रमण "




सोमवार, 24 अप्रैल 2017

तिलक के हटाबू ,एही मिथिला सँ नाम

 || दहेज़ || 
गीत 
सुनू   यौ   बरागत  हमर   अच्छी   प्रणाम  | 
 तिलक  के हटाबू  ,एही  मिथिला सँ  नाम  ||  
                     सुनू  यौ --- तिलक  के ---
कानय   कुमारि  कन्या ,  सीथे  उघारि क | 
 सिन्दूरक छी  भुखलि , कहल   पुकारि क ||  
हम    निर्धन   के  बेटी , छी धर्मक गुलाम | 
तिलक  के  हटाबू,  एही  मिथिला सँ  नाम  || 
                    सुनू  यौ --- तिलक  के ---
मिथिला में जन्म बेटिक,अभिशाप भेलआइ | 
कतेको   प्राण   हत्याक , पाप   भेल   आइ  || 
आई कतय गेल  कृष्ण ,आ कतय गेल  राम |  
तिलक   के  हटाबू, एही  मिथिला सँ  नाम  || 
                        सुनू  यौ --- तिलक  के ---
तिलक  प्रथा  मिथिला  में , जाधरि  रहत  | 
अहाँ  सभक  आँखि ,  सतत   नोरे  बहत  || 
सुख   नञि  भेटत , निन्द   होयत   हराम  | 
तिलक  के  हटाबू ,एही मिथिला सँ  नाम  || 
                       सुनू  यौ --- तिलक  के ---
 "रमण " कहैत अछि , सब सँ  सुनि  लिय  | 
एक   प्रश्न  - उत्तर  बिचारि  कउ   दिय  || 
सोन   सनक    बेटा   के , बेचै  छी    चाम  | 
तिलक  के  हटाबू ,एही मिथिला सँ  नाम  || 
                      सुनू  यौ --- तिलक  के ---
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 22 अप्रैल 2017

मोर वयस नादान यौ

||  मोर वयस नादान  यौ  || 

गीत 
साठी  वरष  के छथि मोर प्रियतम  
 मोर        वयस        नादान      यौ | 
हमरा  सनक  अभागलि   जग   में 
             दोसर  नञि   भगवान  यौ  || 
                      हमरा सनक ----
बाबू     यदि   एहन   वर   लयलनि 
कोना  पसन्द  माय  वर कयलनि  | 
आँखि     नोरायले  पाथर  पसिझल 
देखि    कय    कन्या - दान   यौ  || 
                       हमरा सनक ----
जखन   साजि   कोवर घर  गेलौं   
हुनका   देखि   ओतय  मुरझयलों | 
बाबूक    वयस   रहैत  त   की छल 
बाबा  के    कटलनि   कान    यौ  || 
                         हमरा सनक ----
हँसि   कय  उठ  लनि  अंग  लगौलनि 
अपन   प्रेम    सबटा      दरसौलनि  | 
"रमण "  हुनक  आलिङ्गन   परसब  
बिना     सुपारिक     पान       यौ  || 
                       हमरा सनक ---- 
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017

सुपुरुषक पतीक शिक्षा आ कुपुरुष पतीक शिक्षा

 || सुपुरुषक पतीक शिक्षा || 
 || गीत ||
हे     अर्ध       चन्द्र   ,  हे   अर्धागिन
  ग्रही   में  सुख स्वर्गक छवि  राखी  || २

किछु    माय हमर  अनुचित   बजती
बाबु   जँ   हमर   किछुओ    बजता  |
विष  - वचन ,अमृत बुझि पान करब
 बिनु    अपराधहुँ    तारन     करता  ||
प्रति  अंग  अपन प्रतिपल   कोमल
अमृत   मधुसिक्त   अघर   राखी   ||
                         हे अर्ध   चन्द्र ----
उठि      भोरे     आँगन   -  घर    अहाँ
दय  वादनि , निपि कय  झल कायब |
थोर      बहुँ   नोने , थोर    बहुँ    तेले
हूलसति    मानस  के  घर   जायब  ||
अध खिलित   अघर  मुस्कान   भरल
नहुँये  सँ    मधुर      बचन    भाषी  ||
                        हे  अर्ध  चन्द्र ----
दुख     में   धैरज  , सुख  में   शीतल
आज्ञा      कारी    सदिकाल     रही  |
नैहर     के  सुख  सब  बिसरि अपन
सासुर  में   सागहुँ   खा  कय   रही   ||
एक   प्राण  अधार   प्रिया   प्रियतम
ई "रमण " अहाँक    तखन   साखी

                    हे  अर्ध  चन्द्र ----
 ||  कुपुरुष  पतीक  शिक्षा  || 
|| गीत || 
हे   सूर्य   मुखी  , हे  चन्द्र   मुखी 
     छी  घर  अहाँक , जहिना राखी  ||  २ 
ई  माय  हमर  जँ  किछु  बजती   
बाबू   जँ  हमर  किछुओ बजता  | 
अहाँ    तारन - मारन  सतत करी 
जहिना रखबैन  , ओहिना रहता  ||  
ई   गौओं    हमरा    वारि     दीय  
हम  सतत  अहीँक  रहब साखी || 
                               हे सूर्य -----
अहाँ    क्रोध करी , अहाँ  कलह करी  
हन - हन , पट -पट  सब ठाम करी | 
अहाँ     गारि    पढ़ी  , वे  बात  लड़ी  
   अहाँ   नाम अपन  सब  गाम  करी   || 
सब  वचन  अहाँक  हम  श्रवण करब
छी  मोन   अहाँक   जहिना  भाषी  ||
                                हे सूर्य -----
गहि "रमण " अहाँक  चरणारविन्द
कर   जोरि   कहैछथि   जोरे    सँ  |
झूठहुँ      बाजब    विश्वास   करब
सब   अहाँक   टपा टप    नोरे  सँ   ||
हम  विमुख  अहाँ  सँ  होयब  कोना
जीवनक   हमर     छी     बैसाखी  ||
                                   हे सूर्य -----
रचित :-

रेवती रमण झा "रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

जय कुल बोरनि माता

जय - जय  मैया , जय कुल तारणि  
             जय  कुल  बोरनि  माता  |  
शान्ति कुटीर करू पावन  अम्बे  
                                          हे  कलि  पूज्य  बिधाता  ||     जय - जय --
 कट - कट दसन , अधर पट -पट करू 
          टप - टप   पिपनी  नोरे  | 
थर - थर गात , अरुण दुहूँ  लोचन  
                                     बचन     श्रवित     इनहोरे  ||      जय - जय --
वासर   रैन , चैन  नहि   कहियो  
      निसदिन   नाचथि   नंगे   | 
गाबथि हँसथि  बिलसि  मुख मोदित 
                                         रुदन        बिकट     बहुरंगे  ||         जय - जय --
भाग्य  रेख  वर  पावि  तेहि  निज 
       से    आखर   मोहि   मेंटू  |
"रमण " प्रणाम प्रथम  हे  नागिन 
                                    भाभट      पूर्ण      समेटू   ||         जय - जय --
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

कुलक्षणीक वर्णण , रचित रेवती रमण झा "रमण "

|| कुलक्षणीक  वर्णण ||

थर - थर  काँपथि  , सब  के  श्रापथि   
                   बचन सतत  अधलाहे  |  
इर्ष्या  आगिक   ज्वाला    धधकैन  
                  सदिखन   अनका  डाहे || 
सपनेहुँ  नीक  बचन  नञि  भाषथि 
                हन - हन  , पट - पट  ठोरे | 
  लंका   दहन     सनक   दू    डिम्मा  
             पिपनी     पर   में     नोरे  || 
छोलनी  पटकथि , करछुल पटकथि 
               पटकथि    थारी     लोटा  | 
नित  दिन  दैवक  , भोग  लगाबथि 
              अप्पन     स्वामी     बेटा  || 
सरस्वती     लक्ष्मी     हुनका    सँ  
            नित   मानै   छथि   हारि  | 
"रमण " कुलक्षणी  नारिक लक्षण 
             कहलक   आई   पुकारि   || 
:-
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 15 अप्रैल 2017

मैथिलि हनुमान चालीसा से - सीता - रावण - हनुमान, हनुमान द्वादस दोहा

||  सीता - रावण - हनुमान || 


रेखा   लखन    जखन  सिय पार  |
वर       विपदा    केर  टूटल पहार ||
तीर    तरकस  वर धनुषही हाथ   |
रने -  वने     व्याकुल    रघुनाथ  ||
मन मदान्ध मति गति सूचि राख  |
नत  सीतेहि, अनुचित जूनि भाष  ||
झामर - झुर   सिय मनहि  अधीर |
विमल लोचन वर सजल गम्भीर  ||
हाथ   नाथ     मुदरी  सिया     देल |
रघुवर    दास  आश    हीय   भेल  ||
दश    मुख रावणही  डुमरिक फूल |
रचि     चतुरानन   सभे  अनुकूल  ||
भंगहि      वीरे    महाभट      भीर  |
गाले      काल   गेला     वर   वीर  ||
पवन   त्रिव    गति  सूत   त्रिपुरारी |
तोरी      बंदि    लंका   पगु     धरि  ||
रघुकुल       लाज    जोहि      बैदेही |
राम   लखन    सिय   चित   सनेही ||
हे    हनुमंत      अगाध      अखन्डी  |
" रमण " लाज   वर    राखु   अड़ंगी  ||

|| हनुमान  द्वादस  दोहा || 

रावण   ह्रदय  ज्ञान    विवेकक , जखनहि  बुतलै  बाती  | 
नाश    निमंत्रण  स्वर्ण  महलक , लेलक हाथ में पाती  || 

सीता हरण मरन रावण कउ , विधिना तखन  ई  लीखल | 
भेलै   भेंट  ज्ञान गुण  सागर , थोरवो बुधि  नञि सिखल ||

जकरे  धमक सं डोलल धरनी , ओकर कंठ अछि  सुखल  |
 ओहि पुरुषक कल्याण कतय ,जे पर  तिरिया के भूखल   ||   

शेष  छाउर   रहि  गेल   ह्रदय , रावण  के  सब  अरमान  | 
करम  जकर   बुरायल  रहलै  , करथिनं   कते  भगवन  ||

बाप सँ  पहिने पूत मरत  नञि , धन निज ईच्छ  बरसात |
सीढी  स्वर्गे  हमहिं  लगायब  , पापी कियो  नञि तरसत ||

बिस भुज  तीन मनोरथ लउ  कउ , वो धरती  पर मरिगेल |
जतबे  मरल   राम  कउ  हाथे ,  वो  ततबे  लउ  तरी  गेल ||

कतबऊ  संकट  सिर  पर  परय , भूलिकय करी नञि पाप  |
लाख पुत  सवालाख  नाती  , रहलइ   नञि    बेटा   बाप  ||

संकट  मोचन भउ  संकट में , दुःख सीता जखन बखानल  |
अछि  वैदेही धिक्कार  हमर , भरि  नयन  नोर  सँ  कानल  ||

स्तन  दूधक   छोरी   अंजनि   ,  कयलनि   पर्वत  के  चूर  |
ओकरे  पूत  दूत  हम  बैसल , छी  अहाँ    अतेक  मजबूर   ||

रावण  सहित  उड़ा  कउ  लंका , रामे  चरण धरि  आयब  |
हे , माय   ई   आज्ञा  प्रभु  कउ ,   जौ   थोरबहूँ  हम पायब ||

हे माय  करू विश्वास अतेक  , ई  बिपति रहल दिन थोर   |
दश  मुख दुखक  एतैय  अन्हरिया , अहाँक  सुमंगल भोर  ||

" रमण " कतहुँ नञि  अटेक व्यथित , हे कपि भेलहुँ उदाश |
सर्व गुणक  संपन्न   अहाँ  छी , यौ  पूरब   हमरो   आश  ||

रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "

ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 8 अप्रैल 2017

|| चैतावर ||

 || चैतावर  ||



चैतमास  आयल  सजनमा , हो  रामा  | 
                             देखल  सपनमा  || 
फुदकत  कुहुकत , कारी  रे  कोयलिया -२
नाचत   मोर   आंगनमा  , हो रामा  |
                          देखल   सपनमा ||
लाल रे  पलंगिया  पे देखलों  सपनमा -२
छिटकल  रवि के किरणमा , हो रामा  |
                              देखल  सपनमा  ||
चिकुर  सँवारि , सुभग तन साजल  -२
काजर   रचायल  नयनमा , हो रामा  |
                             देखल  सपनमा  ||
कियने भावै रामा , अनधन  सोनमा  -२
कथी  बिनु  बेकल  परनमा  , हो रामा |
                             देखल  सपनमा  ||
"रमण " ने भावै  मन  अन धन  सोनमा -२
पिया  विनु  बेकल परनमा , हो  रामा |
                          देखल  सपनमा  ||

|| 2 || 
|| चैतावर || 

चैतक        चमकल       इजोरिया 
बलमू   मोरा    मन   तरसाबै    रे | 
रहि -   रहि     कुहकै    कोयलिया  
बलमु     मोरा     मन  तरसाबै  रे || 
            चैतक  --- बलमु --
फुलवन में भँवरा ,करै रंगरेलिया  |
लायल      वसन्तो      बहुरिया   ||
बलमू       मोरा    मन  तरसाबै   रे
                  चैतक  --- बलमु --
पियु -पियु पपिहा ,करै अधिरतिया |
लिखल       सनेहक         पतिया  | |
बलमू      मोरा      मन   तरसाबै   रे
                       चैतक  --- बलमु --
नेमुआँ  फुलायल , अमुआँ  मजरल |
फ़ुलल         जूही          चमेलिया   ||
बलमू       मोरा       मन   तरसाबै   रे
                        चैतक  --- बलमु --
"रमण " पथिक ,पथ प्राण पियासल |
गोड़ियाक    छलकल     गगाड़िया  ||
बलमू       मोरा      मन  तरसाबै   रे
  चैतक  --- बलमु --
रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

सोमवार, 3 अप्रैल 2017

हनुमान चौपाय द्वादस नाम , मैथिलि हनुमान चालिसा से

हनुमान चौपाई - द्वादस नाम  
 ॥ छंद  ॥ 
जय  कपि कल  कष्ट  गरुड़हि   ब्याल- जाल 
केसरीक  नन्दन  दुःख भंजन  त्रिकाल के  । 
पवन  पूत  दूत    राम , सूत शम्भू  हनुमान  
बज्र देह दुष्ट   दलन ,खल  वन  कृषानु के  ॥ 
कृपा  सिन्धु   गुणागार , कपि एही करू  पार 
दीन हीन  हम  मलीन,सुधि लीय आविकय । 
"रमण "दास चरण आश ,एकहि चित बिश्वास 
अक्षय  के काल थाकि  गेलौ  दुःख गाबि कय ॥ 
चौपाई 
जाऊ जाहि बिधि जानकी लाउ ।  रघुवर   भक्त  कार्य   सलटाउ  ॥ 
यतनहि  धरु  रघुवंशक  लाज  । नञि एही सनक कोनो भल काज ॥ 
श्री   रघुनाथहि   जानकी  ज्ञान ।   मूर्छित  लखन  आई हनुमान  ॥ 
बज्र  देह   दानव  दुख   भंजन  ।  महा   काल   केसरिक    नंदन  ॥ 
जनम  सुकरथ  अंजनी  लाल ।  राम  दूत  कय   देलहुँ   कमाल  ॥ 
रंजित  गात  सिंदूर    सुहावन  ।  कुंचित केस कुन्डल मन भावन ॥ 
गगन  विहारी  मारुति  नंदन  । शत -शत कोटि हमर अभिनंदन ॥ 
बाली   दसानन दुहुँ  चलि गेल । जकर   अहाँ  विजयी  वैह   भेल  ॥ 
लीला अहाँ के अछि अपरम्पार ।  अंजनी    लाल    कर    उद्धार   ॥ 
जय लंका विध्वंश  काल मणि  । छमु अपराध सकल दुर्गुन गनि॥
  यमुन चपल  चित  चारु तरंगे  । जय  हनुमंत  सुमित  सुख गंगे ॥  
हे हनुमान सकल गुण  सागर  ।  उगलि  सूर्य जग कैल उजागर ॥ 
अंजनि  पुत्र  पताल  पुर  गेलौं  । राम   लखन  के  प्राण  बचेलों  ॥ 
पवन   पुत्र  अहाँ  जा के लंका । अपन  नाम  के  पिटलों  डंका   ॥ 
यौ महाबली बल कउ जानल ।  अक्षय कुमारक प्राण निकालल ॥ 
हे  रामेष्ट  काज वर कयलों । राम  लखन  सिय  उर  में लेलौ  ॥ 
फाल्गुन साख ज्ञान गुण सार ।  रुद्र  एकादश   कउ  अवतार  ॥ 
हे पिंगाक्ष सुमित सुख मोदक । तंत्र - मन्त्र  विज्ञान के शोधक ॥ 
अमित विक्रम छवि सुरसा जानि । बिकट लंकिनी लेल पहचानि ॥ 
उदधि क्रमण गुण शील निधान । अहाँ सनक नञि कियो वुद्धिमान ॥ 
सीता  शोक   विनाशक  गेलहुँ । चिन्ह  मुद्रिका  दुहुँ   दिश  देलहुँ ॥ 
लक्षमण  प्राण  पलटि  देनहार ।  कपि  संजीवनी  लउलों  पहार ॥ 
दश  ग्रीव दपर्हा  ए कपिराज  । रामक  आतुरे   कउलों   काज  ॥ 
॥ दोहा ॥  
प्रात काल  उठि जे  जपथि ,सदय धराथि  चित ध्यान । 
शंकट   क्लेश  विघ्न  सकल  , दूर  करथि   हनुमान  ॥ 
रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751