dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 30 मार्च 2017

हनुमान जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाऐ

" गीत  "

तोहर  ललना , बुधि  बलवर  अंजनी  ॥
                                  तोहर -----
भक्षल  सूरज , नभ जखनहि  जनमल ।
त्रिभुवन   मा  ,   सकल  तम छाओल  ॥
                                  तोहर ---
बान्धल    श्वेत ,  सीया   जीके  हेरल  ।
जे   छल  सपना , सीया  घुरि  औती ॥
                                   तोहर ---
लंका     जारि    ,  असुर   दल   मारल
उठल   रुदना  ,  घर - घर    अंगना  ॥
                                 तोहर ---
पर्वत     आनि ,   संजीवन    राखल  ।
लखन ललना , मृत्यु  सं उठि  जागल  ॥
                                  तोहर ---
" रमण "  पवन सूत , पाबि मुदित मन  । 
गहल   चरणा  , शंकर   के    सुवनमा  ॥ 
                                          तोहर ---
  ॥ हनुमान   वंदना ॥ 

शील  नेह  निधि , विद्या   वारिध
             कल  कुचक्र  कहाँ  छी  ।
मार्तण्ड   ताम रिपु  सूचि  सागर
           शत दल  स्वक्ष  अहाँ छी ॥
कुण्डल  कणक , सुशोभित काने
         वर कच  कुंचित अनमोल  ।
अरुण तिलक  भाल  मुख रंजित
            पाँड़डिए   अधर   कपोल ॥
अतुलित बल, अगणित  गुण  गरिमा
         नीति   विज्ञानक    सागर  ।
कनक   गदा   भुज   बज्र  विराज
           आभा   कोटि  प्रभाकर  ॥
लाल लंगोटा , ललित अछि कटी
          उन्नत   उर    अविकारी  ।
  वर    बिस    भुज    अहिरावण
         सब    पर भयलहुँ  भारी  ॥
दिन    मलीन   पतित  पुकारल
        अपन  जानि  दुख  हेरल  ।
"रमण " कथा ब्यथा  के बुझित हूँ
           यौ  कपि  किया अवडेरल

रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


चैत राम नवमी की मंगल शुभकामनाऐ

'' गीत "

चैत   राम   नवमी    के    दिनमा  
कौशल्या  के  राम जनम लियो रे  ।
बाजत     अवध      में     बधाई
कौशल्या के राम जनम  लियो रे  ॥
                      कौशल्या  के  ---
दगरिन  नेग मांगै , जेवर साड़ी
नैरिन     अंधन        बखारी   ।।
                     कौशल्या  के ----
पंडित नेग  मांगे , लगन उचारी
हाथ    अंगूठी     के      धारी   ।।
                      कौशल्या  के  ---
दशरथ  लुटावे   अनधन   सोना
कौशल्या     लुटाबे       साड़ी  ॥ 
                      कौशल्या  के ----
"रमण" मुदित भय गावय खेलौना 
  मंगल    अवध     में    भारी  ॥ 
                       कौशल्या  के ----
रचैता -

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


शनिवार, 25 मार्च 2017

रेवती रमण झा " रमण " रचित - चालनि दुसलक सूप -----

                                     
   ॥  चालनि  दुसलक सूप   ॥ 

आँखि  पसारी अहाँ  सब देखु 
बात     कहैत    छी   सांच  । 
ज्ञानी  मनुष्य आब  बसुधा पर 
रहल     हजार    में     पांचे   ॥ 
रहल      हजार       में    पांचे 
सेष   जन   ज्ञान   छीन   जे  । 
अछि   दुनु    जन    विकलांग  
अंग     आ   ज्ञान   हीन  जे  ॥ 
ज्ञान हीन  नञि  बुझय  बुझौने 
अछि       अतवे    टा    खेद  । 
ज्ञान     हीन  आ अंग  हीन  में 
सुनू     कतेक    अछि     भेद   ॥ 
नीति कहैत छी  ज्ञान हीन जन 
मनुषो         बड़दे         थीक  ।
अंग हीन  त भला मनुष्य  अछि 
ज्ञान      हीन     सँ       नीक  ॥ 
अंग   हीन    निज  अंगक  पीड़ा 
अपनहि     तन   में     पाबय  । 
ज्ञान हीन जन  सुर संतन  मुनि 
सज्जन      ताकि     सताबय   ॥ 
से जन लखि  भरि मोन  हंसै छथि 
हमर      देखि      कय       रूप    । 
किन्तु       लगैया    देख   ओहिना 
जेना      चालनि   दुसलक  सूप  ॥ 
रचैता  

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


शुक्रवार, 10 मार्च 2017

होली खेलथि नन्दलाल - होली गीत


होली       खेलथि       नन्दलाल 
राधा   मिलि    गोपी    के   संग । 
भरी - भरी  मारथि वर फिंचकारी 
मचल       अछि       हुड़दंग   ॥  
                       होली खेलथि -----
गाओल     होरी   , रास    जोगीरा 
बाजय    डंफा     ढ़ोल    मजीरा  । 
आ          बाजय         मृदंग   ॥ 
                        होली खेलथि------
ग्वाल  बाल  जान  धूम मचाबय 
रंग    गुलाल   चहु    बरसाबय 
 मारय    पिचकारी    अंग    ॥  
                        होली खेलथि ------
"रमण " पीबि  भांग  रंग रसिया 
भेटल   आइ   चारु  मन  बसिया 
बसुधा       रंग      विरंग  ॥ 
               होली खेलथि--------

मंगलवार, 7 मार्च 2017

यद् राखब - मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर


 हम सब एक बेर फेर जोर लगाबी , मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर राइज़िंग स्टार बनाबय लेल  , वोट जरूर करब।
जय मैथिल - जय मिथिला  

https://www.facebook.com/pankajji13/videos/1388511897866523/

सोमवार, 6 मार्च 2017

प्राणप्रियतम सुनू - होरी गीत



प्राणप्रियतम  सुनू , जा रहल छी कहाँ 
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में । 
छी  मातल   अहाँ  , मस्त  हमहुँ   सुनू 
पूर्ण  यौवन  हमर  ई अहाँक संग में  ॥  
                     प्राणप्रियतम  सुनू  -----
ई अवीर  कर -  कमल सँ  मलू  गाल पर 
आइ  गाबू   ई    होली ,  बिना  ताल  पर 
छन्द  स्वर लय  हेरा  कउ  परा  कउ चलु 
तजि दीय  लाज सबटा  ई हुड़दंग  में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  -----
नेत्र   अछि   दुनू   देखु ,  शराबी  जेकाँ 
बकि  रहल  छी  ई  पत्रक जबावी जेकाँ 
अछि   पिपासी  अहाँके    दासी   प्रिय 
भरि  लीय आइ  हमरा , अहाँ  अंग में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  ------
रंगल  अछि  वसुधा , रंगल अछि गगन 
ई  अहाँक  रंग  रंगल , हमर  देखु  मन 
रंग   होरी   के   झोरी   लेने   हाथ    में 
"रमण " देखू  पीने  मस्त अइ भंग  में  ॥ 
                      प्राणप्रियतम  सुनू ------
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में ।   
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

एक कॉल पिया के नाम - जौ फगुआ में नञि आयब तउ -


एकटा  बात  कहै  छी  प्रियतम 
देबैटा      कने     ध्यान      यौ  । 
जौ   फगुआ  में नञि आयब तउ 
हम    कहब     बैमान     यौ  ।।  
                   जौ  फगुआ  में ---- 
ओहि  दिन अहाँक  बाट  हम ताकब 
रंगक   बाटी   घोरि  कय  राखब  । 
अबितहि    लाल   अबीरक    हाथे  
अहाँक    करब    सम्मान   यो   ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
भंग    तरंग     में   होरी     गायब 
रास - रंग    हुड़दंग    मचायब  । 
हे         प्रानेश्वर     प्राण       नाथ 
अछि   अते  हमर   अरमान  यौ  ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
अकर   बाद    की   लीखू  स्वामी 
अहाँ    त   छी   खुद   अंतर्यामी । 
"रमण "   करू   राधा  पथ  हेरथि 
कुंज    भवन   में   श्याम   यौ  ॥ 
              जौ  फगुआ   में ----
   रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 4 मार्च 2017

मैथिली फगुआ गीत

॥  होरी  ॥ 
उमुख  अनुपम आनन्द  वारि  । 
लायल   होरी   रंगक     विहारि  ॥ 


 जागल  जन -जन  अभिनव  तरंग  
हास्यक   श्रोते   बहि  रहल  बयंग 
निर्भय   विभोर  नाचथि   अनंग  
शंकोच  नीङ   नयनन सँ  गरि   ॥ 
                   लायल   होरी ------
डम्फा      मजीर    भंकृत     मृदंग  
ध्वनि श्रवण पावि  जन - मन  मतंग 
विजया     छानल      अदैत     रसो  
अगणित   लोटे   भरि    कंठ    ढारि ॥  
                    लायल   होरी ------
सब   रास    रंग   में   भेल     लिप्त  
तन   लाल  - लाल ,  मनमोद   तृप्त 
निरखत     नयनन    मुख चंद्र    चारु 
घनश्याम    आइ   घनपट   उधारि  ॥ 
                      लायल   होरी ------
सब जन  अजाति , जानजाति  एक 
नञि    राग -  द्वेष     मर्याद -  टेक
उन्मत      भेल    नर -  नारि    वृंद  

कुंकुम    कोपल  मेलय   पछारि  ॥ 
                      लायल   होरी ------ 
अभक्ष्य    हास्य   मुख -  गारि  छम्य 
वैभव   अभाव   नयि   तकर  गम्य 
सुख - शांति  सुमन  केर  वृक्ष  रोपि  
चिन्ता - बट   चित  फेकल  उखारि ॥
                      लायल   होरी ------
अश्लील    युक्त   सब  गीत  - नाद 
श्रवणे   हुलास ,  नयि  जन  विषाद  
प्रेमक      वाती      उसकाय    उर्घ  
कामागिन  - कुण्ड  में  घीव  ढारि  ॥
                      लायल   होरी -----
ताम्बूल     तबक    आदर्श     थिक
अघरासव     सँ    अनुराग     पीक
ई  स्वर्ण - पर्व , जन   मधुर  मिलन
अपवर्ग    आई    आनल     उतारि  ॥
लायल   होरी ------
चउमुख    अनुपम  आनन्द   वारि  । 
लायल     होरी     रंगक     विहारि  ॥ 
रचना कार - 

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751