dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

गुरुवार, 10 मई 2018

हे माँ वीणा अपन धरु ।। गीतकार - रेवती रमण झा "रमण"

                    || हे माँ वीणा अपन धरु ||
                                   " गीत "
                                       

हे   माँ    वीणा      अपन   धरु
   स्वरचित       संगीत      शारदा ।
गुंजित          अपन         करू
     हे    माँ    वीणा     अपन   धरु  ।।

नव जन गण मन छन्द तालनव
    जीवन         ज्योति          भरू । 
             नव युग नव ऋत नव-नव जल थल        
      कल-कल सृजन करु ।।   हे माँ.....

 विद्या  बुद्धि  विनय  वर वारिधि
 गीता              ज्ञान           धरु
प्रलय   पंथ  मानव  जीवन   जे
   सुललित सुगम करू ।।  हे माँ....

"रमण" चरण-पंकज बहु सेबल
  हमरा          नै            बिसरू
  छोरु अपन  शयन  कमलासन
      सभतरि भ्रमण  करु ।।   हे माँ....

गीतकार
रेवती रमण झा " रमण "


     

कोई टिप्पणी नहीं: