dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शनिवार, 29 अप्रैल 2017

बजरंग -विनय , मैथिली हनुमान चालीसा से

          बजरंग -विनय 













सबहक  काज  सुगम सँ कयलो 
हमर   अगम    कीय  भेलै  यौ  | 
रहलौं   अहिंक  शरण में हनुमंत 
जीवन   कीय  भसिअयलै    यौ  || 
          सबहक   ----हमर ---   २ 
क़डीरिक  वीर सनक  जीवन ई 
मंद   बसात    नञि झेलल  यौ  | 
हम दीन , अहाँ   दीनबन्धु  छी 
तखन  कीयक  अवडेरल  यौ   || 
         सबहक   ----हमर ---   २ 
अंजनी लाल , यौ  केशरी  नंदन 
जग  में कियो  अपन  नञि यौ  | 
एक  आश ,  विश्वास   अहाँक  
वयस   हमर   झरि  गेलै  यौ  || 
        सबहक   ----हमर ---   २ 
मारुति  नंदन , काल  निकंदन 
शंकर  स्वयम   अहाँ   छी  यौ  | 
"रमण "क  जीवन करू सुकारथ 
दया  निधान  कहाँ   छी   यौ 
सबहक   ----हमर ---   २ 
      रचित -
 रेवती रमण झा "रमण "




सोमवार, 24 अप्रैल 2017

तिलक के हटाबू ,एही मिथिला सँ नाम

 || दहेज़ || 
गीत 
सुनू   यौ   बरागत  हमर   अच्छी   प्रणाम  | 
 तिलक  के हटाबू  ,एही  मिथिला सँ  नाम  ||  
                     सुनू  यौ --- तिलक  के ---
कानय   कुमारि  कन्या ,  सीथे  उघारि क | 
 सिन्दूरक छी  भुखलि , कहल   पुकारि क ||  
हम    निर्धन   के  बेटी , छी धर्मक गुलाम | 
तिलक  के  हटाबू,  एही  मिथिला सँ  नाम  || 
                    सुनू  यौ --- तिलक  के ---
मिथिला में जन्म बेटिक,अभिशाप भेलआइ | 
कतेको   प्राण   हत्याक , पाप   भेल   आइ  || 
आई कतय गेल  कृष्ण ,आ कतय गेल  राम |  
तिलक   के  हटाबू, एही  मिथिला सँ  नाम  || 
                        सुनू  यौ --- तिलक  के ---
तिलक  प्रथा  मिथिला  में , जाधरि  रहत  | 
अहाँ  सभक  आँखि ,  सतत   नोरे  बहत  || 
सुख   नञि  भेटत , निन्द   होयत   हराम  | 
तिलक  के  हटाबू ,एही मिथिला सँ  नाम  || 
                       सुनू  यौ --- तिलक  के ---
 "रमण " कहैत अछि , सब सँ  सुनि  लिय  | 
एक   प्रश्न  - उत्तर  बिचारि  कउ   दिय  || 
सोन   सनक    बेटा   के , बेचै  छी    चाम  | 
तिलक  के  हटाबू ,एही मिथिला सँ  नाम  || 
                      सुनू  यौ --- तिलक  के ---
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर

आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 22 अप्रैल 2017

मोर वयस नादान यौ

||  मोर वयस नादान  यौ  || 

गीत 
साठी  वरष  के छथि मोर प्रियतम  
 मोर        वयस        नादान      यौ | 
हमरा  सनक  अभागलि   जग   में 
             दोसर  नञि   भगवान  यौ  || 
                      हमरा सनक ----
बाबू     यदि   एहन   वर   लयलनि 
कोना  पसन्द  माय  वर कयलनि  | 
आँखि     नोरायले  पाथर  पसिझल 
देखि    कय    कन्या - दान   यौ  || 
                       हमरा सनक ----
जखन   साजि   कोवर घर  गेलौं   
हुनका   देखि   ओतय  मुरझयलों | 
बाबूक    वयस   रहैत  त   की छल 
बाबा  के    कटलनि   कान    यौ  || 
                         हमरा सनक ----
हँसि   कय  उठ  लनि  अंग  लगौलनि 
अपन   प्रेम    सबटा      दरसौलनि  | 
"रमण "  हुनक  आलिङ्गन   परसब  
बिना     सुपारिक     पान       यौ  || 
                       हमरा सनक ---- 
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017

सुपुरुषक पतीक शिक्षा आ कुपुरुष पतीक शिक्षा

 || सुपुरुषक पतीक शिक्षा || 
 || गीत ||
हे     अर्ध       चन्द्र   ,  हे   अर्धागिन
  ग्रही   में  सुख स्वर्गक छवि  राखी  || २

किछु    माय हमर  अनुचित   बजती
बाबु   जँ   हमर   किछुओ    बजता  |
विष  - वचन ,अमृत बुझि पान करब
 बिनु    अपराधहुँ    तारन     करता  ||
प्रति  अंग  अपन प्रतिपल   कोमल
अमृत   मधुसिक्त   अघर   राखी   ||
                         हे अर्ध   चन्द्र ----
उठि      भोरे     आँगन   -  घर    अहाँ
दय  वादनि , निपि कय  झल कायब |
थोर      बहुँ   नोने , थोर    बहुँ    तेले
हूलसति    मानस  के  घर   जायब  ||
अध खिलित   अघर  मुस्कान   भरल
नहुँये  सँ    मधुर      बचन    भाषी  ||
                        हे  अर्ध  चन्द्र ----
दुख     में   धैरज  , सुख  में   शीतल
आज्ञा      कारी    सदिकाल     रही  |
नैहर     के  सुख  सब  बिसरि अपन
सासुर  में   सागहुँ   खा  कय   रही   ||
एक   प्राण  अधार   प्रिया   प्रियतम
ई "रमण " अहाँक    तखन   साखी

                    हे  अर्ध  चन्द्र ----
 ||  कुपुरुष  पतीक  शिक्षा  || 
|| गीत || 
हे   सूर्य   मुखी  , हे  चन्द्र   मुखी 
     छी  घर  अहाँक , जहिना राखी  ||  २ 
ई  माय  हमर  जँ  किछु  बजती   
बाबू   जँ  हमर  किछुओ बजता  | 
अहाँ    तारन - मारन  सतत करी 
जहिना रखबैन  , ओहिना रहता  ||  
ई   गौओं    हमरा    वारि     दीय  
हम  सतत  अहीँक  रहब साखी || 
                               हे सूर्य -----
अहाँ    क्रोध करी , अहाँ  कलह करी  
हन - हन , पट -पट  सब ठाम करी | 
अहाँ     गारि    पढ़ी  , वे  बात  लड़ी  
   अहाँ   नाम अपन  सब  गाम  करी   || 
सब  वचन  अहाँक  हम  श्रवण करब
छी  मोन   अहाँक   जहिना  भाषी  ||
                                हे सूर्य -----
गहि "रमण " अहाँक  चरणारविन्द
कर   जोरि   कहैछथि   जोरे    सँ  |
झूठहुँ      बाजब    विश्वास   करब
सब   अहाँक   टपा टप    नोरे  सँ   ||
हम  विमुख  अहाँ  सँ  होयब  कोना
जीवनक   हमर     छी     बैसाखी  ||
                                   हे सूर्य -----
रचित :-

रेवती रमण झा "रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

जय कुल बोरनि माता

जय - जय  मैया , जय कुल तारणि  
             जय  कुल  बोरनि  माता  |  
शान्ति कुटीर करू पावन  अम्बे  
                                          हे  कलि  पूज्य  बिधाता  ||     जय - जय --
 कट - कट दसन , अधर पट -पट करू 
          टप - टप   पिपनी  नोरे  | 
थर - थर गात , अरुण दुहूँ  लोचन  
                                     बचन     श्रवित     इनहोरे  ||      जय - जय --
वासर   रैन , चैन  नहि   कहियो  
      निसदिन   नाचथि   नंगे   | 
गाबथि हँसथि  बिलसि  मुख मोदित 
                                         रुदन        बिकट     बहुरंगे  ||         जय - जय --
भाग्य  रेख  वर  पावि  तेहि  निज 
       से    आखर   मोहि   मेंटू  |
"रमण " प्रणाम प्रथम  हे  नागिन 
                                    भाभट      पूर्ण      समेटू   ||         जय - जय --
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

कुलक्षणीक वर्णण , रचित रेवती रमण झा "रमण "

|| कुलक्षणीक  वर्णण ||

थर - थर  काँपथि  , सब  के  श्रापथि   
                   बचन सतत  अधलाहे  |  
इर्ष्या  आगिक   ज्वाला    धधकैन  
                  सदिखन   अनका  डाहे || 
सपनेहुँ  नीक  बचन  नञि  भाषथि 
                हन - हन  , पट - पट  ठोरे | 
  लंका   दहन     सनक   दू    डिम्मा  
             पिपनी     पर   में     नोरे  || 
छोलनी  पटकथि , करछुल पटकथि 
               पटकथि    थारी     लोटा  | 
नित  दिन  दैवक  , भोग  लगाबथि 
              अप्पन     स्वामी     बेटा  || 
सरस्वती     लक्ष्मी     हुनका    सँ  
            नित   मानै   छथि   हारि  | 
"रमण " कुलक्षणी  नारिक लक्षण 
             कहलक   आई   पुकारि   || 
:-
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 15 अप्रैल 2017

मैथिलि हनुमान चालीसा से - सीता - रावण - हनुमान, हनुमान द्वादस दोहा

||  सीता - रावण - हनुमान || 


रेखा   लखन    जखन  सिय पार  |
वर       विपदा    केर  टूटल पहार ||
तीर    तरकस  वर धनुषही हाथ   |
रने -  वने     व्याकुल    रघुनाथ  ||
मन मदान्ध मति गति सूचि राख  |
नत  सीतेहि, अनुचित जूनि भाष  ||
झामर - झुर   सिय मनहि  अधीर |
विमल लोचन वर सजल गम्भीर  ||
हाथ   नाथ     मुदरी  सिया     देल |
रघुवर    दास  आश    हीय   भेल  ||
दश    मुख रावणही  डुमरिक फूल |
रचि     चतुरानन   सभे  अनुकूल  ||
भंगहि      वीरे    महाभट      भीर  |
गाले      काल   गेला     वर   वीर  ||
पवन   त्रिव    गति  सूत   त्रिपुरारी |
तोरी      बंदि    लंका   पगु     धरि  ||
रघुकुल       लाज    जोहि      बैदेही |
राम   लखन    सिय   चित   सनेही ||
हे    हनुमंत      अगाध      अखन्डी  |
" रमण " लाज   वर    राखु   अड़ंगी  ||

|| हनुमान  द्वादस  दोहा || 

रावण   ह्रदय  ज्ञान    विवेकक , जखनहि  बुतलै  बाती  | 
नाश    निमंत्रण  स्वर्ण  महलक , लेलक हाथ में पाती  || 

सीता हरण मरन रावण कउ , विधिना तखन  ई  लीखल | 
भेलै   भेंट  ज्ञान गुण  सागर , थोरवो बुधि  नञि सिखल ||

जकरे  धमक सं डोलल धरनी , ओकर कंठ अछि  सुखल  |
 ओहि पुरुषक कल्याण कतय ,जे पर  तिरिया के भूखल   ||   

शेष  छाउर   रहि  गेल   ह्रदय , रावण  के  सब  अरमान  | 
करम  जकर   बुरायल  रहलै  , करथिनं   कते  भगवन  ||

बाप सँ  पहिने पूत मरत  नञि , धन निज ईच्छ  बरसात |
सीढी  स्वर्गे  हमहिं  लगायब  , पापी कियो  नञि तरसत ||

बिस भुज  तीन मनोरथ लउ  कउ , वो धरती  पर मरिगेल |
जतबे  मरल   राम  कउ  हाथे ,  वो  ततबे  लउ  तरी  गेल ||

कतबऊ  संकट  सिर  पर  परय , भूलिकय करी नञि पाप  |
लाख पुत  सवालाख  नाती  , रहलइ   नञि    बेटा   बाप  ||

संकट  मोचन भउ  संकट में , दुःख सीता जखन बखानल  |
अछि  वैदेही धिक्कार  हमर , भरि  नयन  नोर  सँ  कानल  ||

स्तन  दूधक   छोरी   अंजनि   ,  कयलनि   पर्वत  के  चूर  |
ओकरे  पूत  दूत  हम  बैसल , छी  अहाँ    अतेक  मजबूर   ||

रावण  सहित  उड़ा  कउ  लंका , रामे  चरण धरि  आयब  |
हे , माय   ई   आज्ञा  प्रभु  कउ ,   जौ   थोरबहूँ  हम पायब ||

हे माय  करू विश्वास अतेक  , ई  बिपति रहल दिन थोर   |
दश  मुख दुखक  एतैय  अन्हरिया , अहाँक  सुमंगल भोर  ||

" रमण " कतहुँ नञि  अटेक व्यथित , हे कपि भेलहुँ उदाश |
सर्व गुणक  संपन्न   अहाँ  छी , यौ  पूरब   हमरो   आश  ||

रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "

ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 8 अप्रैल 2017

|| चैतावर ||

 || चैतावर  ||



चैतमास  आयल  सजनमा , हो  रामा  | 
                             देखल  सपनमा  || 
फुदकत  कुहुकत , कारी  रे  कोयलिया -२
नाचत   मोर   आंगनमा  , हो रामा  |
                          देखल   सपनमा ||
लाल रे  पलंगिया  पे देखलों  सपनमा -२
छिटकल  रवि के किरणमा , हो रामा  |
                              देखल  सपनमा  ||
चिकुर  सँवारि , सुभग तन साजल  -२
काजर   रचायल  नयनमा , हो रामा  |
                             देखल  सपनमा  ||
कियने भावै रामा , अनधन  सोनमा  -२
कथी  बिनु  बेकल  परनमा  , हो रामा |
                             देखल  सपनमा  ||
"रमण " ने भावै  मन  अन धन  सोनमा -२
पिया  विनु  बेकल परनमा , हो  रामा |
                          देखल  सपनमा  ||

|| 2 || 
|| चैतावर || 

चैतक        चमकल       इजोरिया 
बलमू   मोरा    मन   तरसाबै    रे | 
रहि -   रहि     कुहकै    कोयलिया  
बलमु     मोरा     मन  तरसाबै  रे || 
            चैतक  --- बलमु --
फुलवन में भँवरा ,करै रंगरेलिया  |
लायल      वसन्तो      बहुरिया   ||
बलमू       मोरा    मन  तरसाबै   रे
                  चैतक  --- बलमु --
पियु -पियु पपिहा ,करै अधिरतिया |
लिखल       सनेहक         पतिया  | |
बलमू      मोरा      मन   तरसाबै   रे
                       चैतक  --- बलमु --
नेमुआँ  फुलायल , अमुआँ  मजरल |
फ़ुलल         जूही          चमेलिया   ||
बलमू       मोरा       मन   तरसाबै   रे
                        चैतक  --- बलमु --
"रमण " पथिक ,पथ प्राण पियासल |
गोड़ियाक    छलकल     गगाड़िया  ||
बलमू       मोरा      मन  तरसाबै   रे
  चैतक  --- बलमु --
रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

सोमवार, 3 अप्रैल 2017

हनुमान चौपाय द्वादस नाम , मैथिलि हनुमान चालिसा से

हनुमान चौपाई - द्वादस नाम  
 ॥ छंद  ॥ 
जय  कपि कल  कष्ट  गरुड़हि   ब्याल- जाल 
केसरीक  नन्दन  दुःख भंजन  त्रिकाल के  । 
पवन  पूत  दूत    राम , सूत शम्भू  हनुमान  
बज्र देह दुष्ट   दलन ,खल  वन  कृषानु के  ॥ 
कृपा  सिन्धु   गुणागार , कपि एही करू  पार 
दीन हीन  हम  मलीन,सुधि लीय आविकय । 
"रमण "दास चरण आश ,एकहि चित बिश्वास 
अक्षय  के काल थाकि  गेलौ  दुःख गाबि कय ॥ 
चौपाई 
जाऊ जाहि बिधि जानकी लाउ ।  रघुवर   भक्त  कार्य   सलटाउ  ॥ 
यतनहि  धरु  रघुवंशक  लाज  । नञि एही सनक कोनो भल काज ॥ 
श्री   रघुनाथहि   जानकी  ज्ञान ।   मूर्छित  लखन  आई हनुमान  ॥ 
बज्र  देह   दानव  दुख   भंजन  ।  महा   काल   केसरिक    नंदन  ॥ 
जनम  सुकरथ  अंजनी  लाल ।  राम  दूत  कय   देलहुँ   कमाल  ॥ 
रंजित  गात  सिंदूर    सुहावन  ।  कुंचित केस कुन्डल मन भावन ॥ 
गगन  विहारी  मारुति  नंदन  । शत -शत कोटि हमर अभिनंदन ॥ 
बाली   दसानन दुहुँ  चलि गेल । जकर   अहाँ  विजयी  वैह   भेल  ॥ 
लीला अहाँ के अछि अपरम्पार ।  अंजनी    लाल    कर    उद्धार   ॥ 
जय लंका विध्वंश  काल मणि  । छमु अपराध सकल दुर्गुन गनि॥
  यमुन चपल  चित  चारु तरंगे  । जय  हनुमंत  सुमित  सुख गंगे ॥  
हे हनुमान सकल गुण  सागर  ।  उगलि  सूर्य जग कैल उजागर ॥ 
अंजनि  पुत्र  पताल  पुर  गेलौं  । राम   लखन  के  प्राण  बचेलों  ॥ 
पवन   पुत्र  अहाँ  जा के लंका । अपन  नाम  के  पिटलों  डंका   ॥ 
यौ महाबली बल कउ जानल ।  अक्षय कुमारक प्राण निकालल ॥ 
हे  रामेष्ट  काज वर कयलों । राम  लखन  सिय  उर  में लेलौ  ॥ 
फाल्गुन साख ज्ञान गुण सार ।  रुद्र  एकादश   कउ  अवतार  ॥ 
हे पिंगाक्ष सुमित सुख मोदक । तंत्र - मन्त्र  विज्ञान के शोधक ॥ 
अमित विक्रम छवि सुरसा जानि । बिकट लंकिनी लेल पहचानि ॥ 
उदधि क्रमण गुण शील निधान । अहाँ सनक नञि कियो वुद्धिमान ॥ 
सीता  शोक   विनाशक  गेलहुँ । चिन्ह  मुद्रिका  दुहुँ   दिश  देलहुँ ॥ 
लक्षमण  प्राण  पलटि  देनहार ।  कपि  संजीवनी  लउलों  पहार ॥ 
दश  ग्रीव दपर्हा  ए कपिराज  । रामक  आतुरे   कउलों   काज  ॥ 
॥ दोहा ॥  
प्रात काल  उठि जे  जपथि ,सदय धराथि  चित ध्यान । 
शंकट   क्लेश  विघ्न  सकल  , दूर  करथि   हनुमान  ॥ 
रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

गुरुवार, 30 मार्च 2017

हनुमान जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाऐ

" गीत  "

तोहर  ललना , बुधि  बलवर  अंजनी  ॥
                                  तोहर -----
भक्षल  सूरज , नभ जखनहि  जनमल ।
त्रिभुवन   मा  ,   सकल  तम छाओल  ॥
                                  तोहर ---
बान्धल    श्वेत ,  सीया   जीके  हेरल  ।
जे   छल  सपना , सीया  घुरि  औती ॥
                                   तोहर ---
लंका     जारि    ,  असुर   दल   मारल
उठल   रुदना  ,  घर - घर    अंगना  ॥
                                 तोहर ---
पर्वत     आनि ,   संजीवन    राखल  ।
लखन ललना , मृत्यु  सं उठि  जागल  ॥
                                  तोहर ---
" रमण "  पवन सूत , पाबि मुदित मन  । 
गहल   चरणा  , शंकर   के    सुवनमा  ॥ 
                                          तोहर ---
  ॥ हनुमान   वंदना ॥ 

शील  नेह  निधि , विद्या   वारिध
             कल  कुचक्र  कहाँ  छी  ।
मार्तण्ड   ताम रिपु  सूचि  सागर
           शत दल  स्वक्ष  अहाँ छी ॥
कुण्डल  कणक , सुशोभित काने
         वर कच  कुंचित अनमोल  ।
अरुण तिलक  भाल  मुख रंजित
            पाँड़डिए   अधर   कपोल ॥
अतुलित बल, अगणित  गुण  गरिमा
         नीति   विज्ञानक    सागर  ।
कनक   गदा   भुज   बज्र  विराज
           आभा   कोटि  प्रभाकर  ॥
लाल लंगोटा , ललित अछि कटी
          उन्नत   उर    अविकारी  ।
  वर    बिस    भुज    अहिरावण
         सब    पर भयलहुँ  भारी  ॥
दिन    मलीन   पतित  पुकारल
        अपन  जानि  दुख  हेरल  ।
"रमण " कथा ब्यथा  के बुझित हूँ
           यौ  कपि  किया अवडेरल

रचैता -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


चैत राम नवमी की मंगल शुभकामनाऐ

'' गीत "

चैत   राम   नवमी    के    दिनमा  
कौशल्या  के  राम जनम लियो रे  ।
बाजत     अवध      में     बधाई
कौशल्या के राम जनम  लियो रे  ॥
                      कौशल्या  के  ---
दगरिन  नेग मांगै , जेवर साड़ी
नैरिन     अंधन        बखारी   ।।
                     कौशल्या  के ----
पंडित नेग  मांगे , लगन उचारी
हाथ    अंगूठी     के      धारी   ।।
                      कौशल्या  के  ---
दशरथ  लुटावे   अनधन   सोना
कौशल्या     लुटाबे       साड़ी  ॥ 
                      कौशल्या  के ----
"रमण" मुदित भय गावय खेलौना 
  मंगल    अवध     में    भारी  ॥ 
                       कौशल्या  के ----
रचैता -

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


शनिवार, 25 मार्च 2017

रेवती रमण झा " रमण " रचित - चालनि दुसलक सूप -----

                                     
   ॥  चालनि  दुसलक सूप   ॥ 

आँखि  पसारी अहाँ  सब देखु 
बात     कहैत    छी   सांच  । 
ज्ञानी  मनुष्य आब  बसुधा पर 
रहल     हजार    में     पांचे   ॥ 
रहल      हजार       में    पांचे 
सेष   जन   ज्ञान   छीन   जे  । 
अछि   दुनु    जन    विकलांग  
अंग     आ   ज्ञान   हीन  जे  ॥ 
ज्ञान हीन  नञि  बुझय  बुझौने 
अछि       अतवे    टा    खेद  । 
ज्ञान     हीन  आ अंग  हीन  में 
सुनू     कतेक    अछि     भेद   ॥ 
नीति कहैत छी  ज्ञान हीन जन 
मनुषो         बड़दे         थीक  ।
अंग हीन  त भला मनुष्य  अछि 
ज्ञान      हीन     सँ       नीक  ॥ 
अंग   हीन    निज  अंगक  पीड़ा 
अपनहि     तन   में     पाबय  । 
ज्ञान हीन जन  सुर संतन  मुनि 
सज्जन      ताकि     सताबय   ॥ 
से जन लखि  भरि मोन  हंसै छथि 
हमर      देखि      कय       रूप    । 
किन्तु       लगैया    देख   ओहिना 
जेना      चालनि   दुसलक  सूप  ॥ 
रचैता  

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751


शुक्रवार, 10 मार्च 2017

होली खेलथि नन्दलाल - होली गीत


होली       खेलथि       नन्दलाल 
राधा   मिलि    गोपी    के   संग । 
भरी - भरी  मारथि वर फिंचकारी 
मचल       अछि       हुड़दंग   ॥  
                       होली खेलथि -----
गाओल     होरी   , रास    जोगीरा 
बाजय    डंफा     ढ़ोल    मजीरा  । 
आ          बाजय         मृदंग   ॥ 
                        होली खेलथि------
ग्वाल  बाल  जान  धूम मचाबय 
रंग    गुलाल   चहु    बरसाबय 
 मारय    पिचकारी    अंग    ॥  
                        होली खेलथि ------
"रमण " पीबि  भांग  रंग रसिया 
भेटल   आइ   चारु  मन  बसिया 
बसुधा       रंग      विरंग  ॥ 
               होली खेलथि--------

मंगलवार, 7 मार्च 2017

यद् राखब - मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर


 हम सब एक बेर फेर जोर लगाबी , मैथिली ठाकुर के 11 मार्च के 9 बजे सँ कॉलर्स टीवी पर राइज़िंग स्टार बनाबय लेल  , वोट जरूर करब।
जय मैथिल - जय मिथिला  

https://www.facebook.com/pankajji13/videos/1388511897866523/

सोमवार, 6 मार्च 2017

प्राणप्रियतम सुनू - होरी गीत



प्राणप्रियतम  सुनू , जा रहल छी कहाँ 
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में । 
छी  मातल   अहाँ  , मस्त  हमहुँ   सुनू 
पूर्ण  यौवन  हमर  ई अहाँक संग में  ॥  
                     प्राणप्रियतम  सुनू  -----
ई अवीर  कर -  कमल सँ  मलू  गाल पर 
आइ  गाबू   ई    होली ,  बिना  ताल  पर 
छन्द  स्वर लय  हेरा  कउ  परा  कउ चलु 
तजि दीय  लाज सबटा  ई हुड़दंग  में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  -----
नेत्र   अछि   दुनू   देखु ,  शराबी  जेकाँ 
बकि  रहल  छी  ई  पत्रक जबावी जेकाँ 
अछि   पिपासी  अहाँके    दासी   प्रिय 
भरि  लीय आइ  हमरा , अहाँ  अंग में  ॥ 
                       प्राणप्रियतम  सुनू  ------
रंगल  अछि  वसुधा , रंगल अछि गगन 
ई  अहाँक  रंग  रंगल , हमर  देखु  मन 
रंग   होरी   के   झोरी   लेने   हाथ    में 
"रमण " देखू  पीने  मस्त अइ भंग  में  ॥ 
                      प्राणप्रियतम  सुनू ------
रंगि  दीय  आइ  हमरा , अहाँ  रंग में ।   
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

एक कॉल पिया के नाम - जौ फगुआ में नञि आयब तउ -


एकटा  बात  कहै  छी  प्रियतम 
देबैटा      कने     ध्यान      यौ  । 
जौ   फगुआ  में नञि आयब तउ 
हम    कहब     बैमान     यौ  ।।  
                   जौ  फगुआ  में ---- 
ओहि  दिन अहाँक  बाट  हम ताकब 
रंगक   बाटी   घोरि  कय  राखब  । 
अबितहि    लाल   अबीरक    हाथे  
अहाँक    करब    सम्मान   यो   ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
भंग    तरंग     में   होरी     गायब 
रास - रंग    हुड़दंग    मचायब  । 
हे         प्रानेश्वर     प्राण       नाथ 
अछि   अते  हमर   अरमान  यौ  ॥ 
                   जौ  फगुआ  में ----
अकर   बाद    की   लीखू  स्वामी 
अहाँ    त   छी   खुद   अंतर्यामी । 
"रमण "   करू   राधा  पथ  हेरथि 
कुंज    भवन   में   श्याम   यौ  ॥ 
              जौ  फगुआ   में ----
   रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शनिवार, 4 मार्च 2017

मैथिली फगुआ गीत

॥  होरी  ॥ 
उमुख  अनुपम आनन्द  वारि  । 
लायल   होरी   रंगक     विहारि  ॥ 


 जागल  जन -जन  अभिनव  तरंग  
हास्यक   श्रोते   बहि  रहल  बयंग 
निर्भय   विभोर  नाचथि   अनंग  
शंकोच  नीङ   नयनन सँ  गरि   ॥ 
                   लायल   होरी ------
डम्फा      मजीर    भंकृत     मृदंग  
ध्वनि श्रवण पावि  जन - मन  मतंग 
विजया     छानल      अदैत     रसो  
अगणित   लोटे   भरि    कंठ    ढारि ॥  
                    लायल   होरी ------
सब   रास    रंग   में   भेल     लिप्त  
तन   लाल  - लाल ,  मनमोद   तृप्त 
निरखत     नयनन    मुख चंद्र    चारु 
घनश्याम    आइ   घनपट   उधारि  ॥ 
                      लायल   होरी ------
सब जन  अजाति , जानजाति  एक 
नञि    राग -  द्वेष     मर्याद -  टेक
उन्मत      भेल    नर -  नारि    वृंद  

कुंकुम    कोपल  मेलय   पछारि  ॥ 
                      लायल   होरी ------ 
अभक्ष्य    हास्य   मुख -  गारि  छम्य 
वैभव   अभाव   नयि   तकर  गम्य 
सुख - शांति  सुमन  केर  वृक्ष  रोपि  
चिन्ता - बट   चित  फेकल  उखारि ॥
                      लायल   होरी ------
अश्लील    युक्त   सब  गीत  - नाद 
श्रवणे   हुलास ,  नयि  जन  विषाद  
प्रेमक      वाती      उसकाय    उर्घ  
कामागिन  - कुण्ड  में  घीव  ढारि  ॥
                      लायल   होरी -----
ताम्बूल     तबक    आदर्श     थिक
अघरासव     सँ    अनुराग     पीक
ई  स्वर्ण - पर्व , जन   मधुर  मिलन
अपवर्ग    आई    आनल     उतारि  ॥
लायल   होरी ------
चउमुख    अनुपम  आनन्द   वारि  । 
लायल     होरी     रंगक     विहारि  ॥ 
रचना कार - 

रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

jai maithil - jai mithila

मैथिली ठाकुर के वोट करब नहि बिसरब, 11 तारीख रात्रि 9 सँ 10 बजे कलर्स टीवी पर। वोट करबाक लेल कलर्स टीवी एप्प गूगल प्ले स्टोरसँ डाउनलोड क
रू आ वोट करबाक प्रक्रिया पहिने बुझि लीय 

मंगलवार, 31 जनवरी 2017

सरस्वती वन्दना

सरस्वती वन्दना 

विद्याक     देवी ,   हमर  अछि प्रणाम  । 
 अहाँ  तेजि  जैयो  नञि  मिथिलाक धाम ॥ 
               अहाँ  तेजि --- विद्याक  देवी-
  गंगा  आ  कोशी , कमला गंडक बहैत अई  ।
  घर - घर  में  वेद   गीता  पोथी  रहैत अइ  ॥  
जतयक   बेटी  सीता   ने  ने अयली राम  । 
           अहाँ  तेजि --- विद्याक  देवी- --
चिनुआर  पर  गोसाउनिक  पीरी  रहैत अई । 
जिनकर अपार महिमा  घर - घर गबैत अई ॥ 
गोवर   सँ   नीपल  , आ  अड़िपन ललाम  । 
                   अहाँ  तेजि --- विद्याक  देवी- -
भोजन आ  भेष  वाणी  ,अमृत जतयक अई ।
सेबा अतिथि स्वागत ,स्वीकृति  जतयक अई ॥
जतय   आबि   भोला   बनल   छथि  गुलाम  ।
                 अहाँ  तेजि --- विद्याक  देवी- -
बिसरि  गेल   मिथिला   में  एकबेर  आऊ ।
"रमण " मैथिलीक  गीत  वीण  पर बजाऊ ॥
एकबेर    जगमग   अपन  करू   नाम  ।
                    अहाँ  तेजि --- विद्याक  देवी-
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

मंगलवार, 24 जनवरी 2017

ई शीश धरब बलिदान रे


॥  ई शीश  धरब  बलिदान  रे  ॥ 
परम  स्वतन्त्र  हमर भारत अछि
हक़  अछि    एक    समान   रे  ।
हम   सब  निज  अधिकार   हेतु
 ई  शीश    धरब    बलिदान   रे  ॥
                हम   सब --- ई  शीश --

लहरय     झंड़ा   , आइ    तिरंगा
पागल        पवन     - पतंग   रे ।
केसरिया    बल  , बांग    हरित
अरु  स्वेत   सत्य  केर   रंग  रे ॥
माँ  भारत  के  चरण  पखारल
गंगा     केर    तूफान      रे  ।
                  हम   सब --- ई  शीश --

भारत   माता   केर    सपूतक  
सपना    थिक   साकार    रे  ।
देश    भक्त वर  वीर सुभाषक
कीर्ति     विदित    संसार   रे  ॥
 गाँधी    लकुटि   लगोंटी   धारी
देश      रत्न     भगवन      रे ।
        हम  सब --- ई शीश -- ॥

समर -  सिन्धु    तूफान मध्य
सँ  किस्ती  आनल  जीत  रे  ।
"रमण " देश  के बिलटायब  नञि
भारत    भूमि सँ    प्रीत    रे  ॥
भारत    हमर , हम   छी  वाशी
दखल     करात   के   आन   रे  ।
   हम   सब --- ई  शीश --

रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

॥   देश के  जँ  बचायब  पिया  ॥


सीथक सिन्दूर हमर , होयत  तखनेटा अमर
देश के जँ बचायब  पिया , उछलि  गँगा  सन जायत हीया

स्वर्ण   पट   पर   सुभाषक  अमर जिंदगी
गाँधी   नेहरू   आ  वीर   कुँवर   जिंदगी ,

धन्य   माइयो  ओकर , पुत्र  वीरो जकर
धन्य  पत्नी ,  जकर  हो पिया  ॥ उछलि  गँगा --

देश  प्रेमी  सँ  मिलिते  रहब  सब  दिन
कर्म भूमि पर  खिलिते  रहब सब दिन

सुधि  बिसरि  कउ  हमर , जायब दुष्टक डगर
    मारब दुश्मन के , पाइनो  पिया  ॥  उछलि  गँगा ---

सीथ    सिन्दूर  सबटा  , ई  झरि  जायत जँ
सउख  हमर सुहागक  ,  ई जरि  जायत जँ

नोर झारब  नञि  हम , शोक डारब नञि हम
रक्त  के हम करब  बिन्दिया  ॥   उछलि  गँगा ---

भाग्य   अवसर  जे  सेवाक  भेँट  गेल  अइ
स्वर्ग   पथ   आब   जेवाक  भेँट  गेल  अइ

"रमण " नर तन  अते , पायब युग - युग  कते
जिन्दगी  ने  करू  , ऐछीया  ॥ उछलि  गँगा ---
रचना कार - 
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला

मो 09997313751

मंगलवार, 17 जनवरी 2017

नवसाल के - नवका बात

नवसाल  के- नबका बात 
सुनू  यो  मैथिल  , सुनू यौ तात 
 नाव  साल   के   नवका   बात  । 
नवल  चेतना  जागि  उठल नव 
अहाँ  सब छी , कियक  एकात ॥ 
            सुनू  यौ  --- नाव   --
कतबौ    लड़लौं ,   कतबौ   लरु 
मुदा  एकहि  ठाँ  सब किछू  धरू । 
सब    फदकैया   संग    रहैया 
जहिना  टोकना  केर यौ भात  ॥ 
  सुनू  यौ  --- नाव   --
कियो नञि  दुरजन , सब छथि सज्जन 
जौं  दुरजन  त   हमहीं   दुरजन  । 
अप्पन -  अप्पन  ठीक  करु  मन 
एक  लाख   में  एकटा   बात  ॥ 
              सुनू  यौ  --- नाव   --
उठू   यौ   मैथिल  सव  कियो जागू 
सब ठाँ   मैथिल   पहुँचल   आगू  । 
सभतरि मिथिला चमकि उठल अछि 
अपन     गाम  -   अपन   बात  ॥ 
                  सुनू  यौ  --- नाव   --
रचैता -
 रेवती रमण झा  "रमण "

शनिवार, 14 जनवरी 2017

तिला संक्राइत - मिथिला लेल तिल-चाउर बहब

प्रवीण चौधरी ‘किशोर-


तिला संक्राइत - मिथिला लेल तिल-चाउर बहब!

मकर संक्रान्तिके शुभ अवसरपर समस्त जनमानस लेल शुभकामना!
      
मकर संक्रान्ति के त्योहार मोक्ष लेल प्रतिबद्धता हेतु होइछ - निःस्वार्थ सेवा - निष्काम कर्म करैत मुक्ति पाबैक लेल शपथ-ग्रहण - संकल्प हेतु एहि पावनिक महत्त्व छैक।

जेना माय के हाथ तिल-चाउर खाइत हम सभ मैथिल माय के ई पुछला पर जे ‘तिल-चाउर बहमें ने..?’ हम सभ इ कहैत गछैत छी जे ‘हाँ माय! बहबौ!’ आ इ क्रम तीन बेर दोहराबैत छी - एकर बहुत पैघ महत्त्व होइछ। पृथ्वीपर तिनू दृश्य स्वरूप जल, थल ओ नभ जे प्रत्यक्ष अछि, एहि तिनूमें हम सभ अपन माय के वचन दैत तिल-चाउर ग्रहण करैत छी। एक-एक तिल आ एक-एक चाउरके कणमें हमरा लोकनिक इ शपथ-प्रण युगों-युगोंतक हमरा लोकनिक आत्म-रूपके संग रहैछ। बेसी जीवन आ बेसी दार्शनिक बात छोड़ू... कम से कम एहि जीवनमें माय के समक्ष जे प्रण लेलहुँ तेकरा कम से कम पूरा करी, पूरा करय लेल जरुर प्रतिबद्ध बनी।

आउ, एहि शुभ दिनक किछु आध्यात्मिक महत्त्वपर मनन करी:  
१. मकर संक्रान्ति मानव जीवन के असल उद्देश्य के पुनर्स्मरण हेतु होइछ जाहि सँ मानव लेल समुचित मार्गपर अग्रसर होयबाक प्रेरणा के पुनर्संचरण हेतु सेहो होइछ। धर्म, अर्थ, काम आ मोक्ष के पुरुषार्थ कहल गेल अछि - जे जीवन केर आधारभूत मौलिक माँग या आवश्यकता केर द्योतक होइछ। एहि सभमें मोक्ष या मुक्ति सर्वोच्च पुरुषार्थ होइछ। श्रीकृष्ण गीताके ८.२४ आ ८.२५ में दू मुख्य मार्गकेर चर्चा केने छथि - उत्तरायण मार्ग आ दक्षिणायण मार्ग। एहि दू मार्गकेँ क्रमशः ईशकेर मार्ग आ पितरकेर मार्ग सेहो कहल गेल छैक। अन्य नाम अर्चिरादि मार्ग आ धुम्रादि मार्ग अर्थात्‌ प्रकाशगामिनी आ अंधकारगामिनी मार्ग क्रमशः सेहो कहल जैछ।
    उत्तरायण मार्ग ओहि आत्माके गमन लेल कहल गेल छैक जे निष्काम कर्म करैत अपन शरीर केर उपयोग कयने रहैछ। तहिना जे काम्य-कर्म में अपन शरीरकेँ लगबैछ, ताहि आत्माकेँ शरीर परित्याग उपरान्त दक्षिणायण मार्ग सऽ गमनकेर माहात्म्य छैक। उत्तरायण मार्गमे गमन केँ मतलब ईश्वर-परमात्मामे विलीन होयब, जखन कि दक्षिणायणमे गमन केँ मतलब कर्म-बन्धनकेर चलते पुनः जीवनमे प्रविष्टि सँ होइछ। मकर संक्रान्ति एहि मुक्तिक मार्ग जे श्रीकृष्ण द्वारा गीतामे व्याख्या कैल गेल अछि ताहि केँ पुनर्स्मरण कराबय लेल होइछ।  
२. सूर्यक उत्तरगामी होयब शुरु करयवाला दिन - जेकरा उत्तरायण कहल जैछ। अन्य लोकक लेल ६ महीना उत्तरायण आ बाकीक ६ महीना दक्षिणायण कहैछ।
३. पुराण के मुताबिक, एहि दिन सूर्य अपन पुत्र शनिदेवकेर घर प्रवेश करैत छथि, जे मकर राशिक स्वामी छथि। चूँकि पिता आ पुत्र केँ अन्य समय ढंग सऽ भेंटघांट नहि भऽ सकल रहैत छन्हि, तैं पिता सूर्य औझका दिन विशेष रूप सऽ अपन पुत्र शनिदेव सऽ भेटय लेल निर्धारित केने छथि। ओ वास्तवमें एक मास के लेल पुत्र शनिदेवके गृह में प्रवेश करैत छथि। अतः यैह दिन विशेष रूप सऽ स्मरण कैल जैछ पिता-पुत्रके मिलन लेल।
    माहात्म्य: सूर्यदेव कर्म केर परिचायक आधिदेवता छथि, तऽ शनिदेव कर्मफल केर परिचायक आधिदेवता! मकर संक्रान्ति एहेन दिवसकेर रूपमे होइछ जहिया हम सभ निर्णय करैत छी हमरा सभकेँ कोन मार्ग पर चलबाक अछि - सूर्य-देव द्वारा प्रतिनिधित्व कैल निष्काम-कर्म (प्रकाशगामिनी) या फेर शनि-देव द्वारा प्रतिनिधित्व कैल काम्य-कर्म (अन्धकारगामिनी)।

४. यैह दिन भगवान्‌ विष्णु सदाक लेल असुरक बढल त्रासकेँ ओकरा सभकेँ मारिकय खत्म कयलाह आ सभक मुण्डकेँ मंदार पर्वतमे गाड़ि देलाह।
    माहात्म्य: नकारात्मकताक अन्त हेतु एहि दिनकेर विशेष महत्त्व होइछ आ तदोपरान्त सकारात्मकताक संग जीवनक प्रतिवर्ष एक नव शुरुआत देबाक दिवस थीक मकर संक्रान्ति।

५. महाराज भागिरथ यैह दिन अत्यन्त कठोर तपसँ गंगाजीकेँ पृथ्वीपर अवतरित करैत अपन पुरखा ६०,००० महाराज सगरक पुत्र जिनका कपिल मुनिक आश्रमपर श्रापक चलतबे भस्म कय देल गेल छलन्हि - तिनकर शापविमोचन एवं मोक्ष हेतु मकर-संक्रान्तिक दिन गंगाजल सँ आजुक गंगासागर जतय अछि ताहि ठामपर तर्पण केने छलाह आ हिनक तपस्याकेँ फलित कयलाक बाद गंगाजी सागरमें समाहित भऽ गेल छलीह। गंगाजी पाताललोक तक भागिरथकेर तपस्याक फलस्वरूप हुनकर पुरुखाकेँ तृप्तिक लेल जाइत अन्ततः सागरमें समाहित भेल छलीह। आइयो एहि जगह गंगासागरमे आजुक दिन विशाल मेला लगैछ, जाहिठाम गंगाजी सागरमे विलीन होइत छथि, हजारों हिन्दू पवित्र सागरमे डुबकी लगाबैछ आ अपन पुरुखाकेँ तृप्ति-मुक्ति हेतु तर्पण करैछ।
       माहात्म्य: भागिरथ केर प्रयास आध्यात्मिक संघर्षक द्योतक अछि। गंगा ज्ञानक धाराक द्योतक छथि। नहि ज्ञानेन सदृशम्‌ पवित्रमिह उद्यते! पुरुखाक पीढी-दर-पीढी मुक्ति पबैत छथि जखन एक व्यक्ति अथक प्रयास, आध्यात्मिक चेतना एवं तपस्या सऽ ज्ञान प्राप्त करैछ।

६. आजुक दिनकेर एक आरो अत्यन्त महत्त्वपूर्ण सन्दर्भ भेटैछ जखन महाभारतक सुप्रतिष्ठित भीष्म पितामह एहि दिवस अपन इच्छा-मृत्युक वरदान पूरा करय लेल इच्छा व्यक्त कयलाह। हुनक पिता हुनका इच्छामृत्युकेर वरदान देने छलखिन, ओ एहि पुण्य दिवस तक स्वयंकेँ तीरकेर शय्यापर रखलाह आ मकर संक्रान्तिकेँ आगमनपर अपन पार्थिव शरीर छोड़ि स्वर्गारोहण कयलाह। कहल जैछ जे उत्तरायणमें शरीर त्याग करैछ ओ पुनर्जन्मकेर बंधन सँ मुक्ति पबैछ। अतः आजुक दिन विशेष मानल जैछ अन्य दुनिया-गमन करबाक लेल।

माहात्म्य: मृत्यु उत्तरायणके राह अंगीकार कयलापर होयबाक चाही - मुक्ति मार्गमें। ओहि सऽ पहिले नहि! आत्माकेर स्वतंत्रता लेल ई जरुरी अछि। एहिठाम उत्तरायणक तात्पर्य अन्तर्ज्योतिक जागरण सऽ अछि - प्रकाशगामिनी होयबाक सऽ अछि।

एहि शुभ दिनक अनेको तरहक आन-आन माहात्म्य सब अछि आ एहि लेल विशेष रुचि राखनिहार लेल स्वाध्याय समान महत्त्वपूर्ण साधन सेहो यैह संसारमे एखनहु उपलब्ध अछि। केवल शुभकामना - लाइ-मुरही-चुल्लौड़-तिलवा आ तदोपरान्त खिच्चैड़-चोखा-घी-अचाड़-पापड़-दही-तरुआ-बघरुआक भौतिकवादी दुनिया मे डुबकी लगबैत रहब तऽ मिथिलाक महत्ता अवश्य दिन-प्रति-दिन घटैत जायत आ पुनः दोसर मदनोपाध्याय या लक्ष्मीनाथ गोसाईंक पदार्पण संभव नहि भऽ सकत।

अतः हे मैथिल, आजुक एहि पुण्य तिथिपर किऐक नहि हम सभ एक संकल्प ली जे मिथिलाकेँ उत्तरायणमे प्रवेश हेतु हम सभ एकजूट बनब आ अवश्य निष्काम कर्म सऽ मिथिला-मायकेर तिल-चाउरकेँ भार-वहन करबे टा करब। जेना श्री कृष्ण अर्जुन संग कौरवकेर अहं समाप्त करय लेल धर्मयुद्ध वास्ते प्रेरणा देलाह, तहिना मिथिलाक सुन्दर इतिहास, साहित्य, संगीत, शैली, भाषा, विद्वता एवं हर ओ सकारात्मकता जेकरा बदौलत मिथिला कहियो आनो-आनो लेल शिक्षाक गढ छल तेकरा विपन्न होइ सऽ जोगाबी। जीवन भेटल अछि, खेबो करू... मुदा खेलाके बाद बहबो करियौक। मातृभूमि आ मातृभाषाक लेल रक्षक बनू। मिथिला मायकेर तरफ सँ तिल-चाउर हमहुँ खा रहल छी, जा धरि जीवन रहत ता धरि बहब, फेरो जन्म लेबय पड़त सेहो मंजूर - आ फेरो बहब तऽ मिथिलाक लेल बही यैह शुभकामनाक संग, मकर संक्रान्ति सँग जे नव वर्षक शुरुआत आइ भेल अछि ताहि अवसर पर फेर समस्त मैथिल एवं मानव समुदाय लेल मंगलकेर कामना करैत छी।
जय मैथिली! जय मिथिला!

ॐ तत्सत्‌!




मंगलवार, 10 जनवरी 2017

दहेज मुक्त मिथिलाक अन्तर्राष्ट्रीय संयोजक संग साक्षात्कारः सृष्टि दैनिक




हेज मुक्त मिथिला - नेपाल तथा भारत मे संयुक्त रूप सँ कार्यरत मिथिला समाज मे दहेज प्रथाक विरोध मे अभियानरूप मे चलयवला संस्थाक अन्तर्राष्ट्रीय संयोजक प्रवीण नारायण चौधरी संग साक्षात्कारः

१. अपने सभक संस्था समाज सँ दहेज उन्मूलनक लेल कोन ढंग सँ काज कय रहल अछि?
उ. दहेज मुक्त मिथिला मूल रूप सँ सोसल मीडिया सँ आरम्भ भेल एकटा क्रान्ति थीक। एकर लक्ष्य छैक जे वर्तमान शिक्षित युवा पीढी केँ एहि प्रथाक दोष पर बेसी सँ बेसी चर्चा करबाक लेल उकसायल जाय - आर एकर नकारात्मक स्वरूप सँ दूरी बनेबाक लेल प्रेरित कैल जाय। हलांकि आब ई अभियान सोसल मीडिया सँ यथार्थ धरातलपर सेहो उतैर चुकल अछि ठाम-ठामपर। भारतक मुम्बई, दिल्ली, गुआहाटी, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, पटना, जमशेदपुर, बनारस, कानपूर, राँची सहित अनेको ठाम तथा नेपाल मे विराटनगर, राजविराज, लहान, जनकपुर, बीरगंज, काठमांडु, इनरुवा, भारदह आदि स्थान मे एहि अभियान सँ जुड़ल लोकसब जमीनपर सेहो एकरा उतारलैन अछि। मुख्य रूप सँ "माँगरूपी दहेज केर प्रतिकार" हेतु 'आत्मसंकल्प' लेब एहि अभियानक कार्यरूप होएछ। समाजक हरेक उमेर केर लोक सँ माँगरूपी दहेज नहि लेब नहि देब, न अपन धिया-पुता मे लेब या देब आ नहिये एहेन माँगिकय लेल गेल दहेज केर विवाहोत्सव मे सहभागी बनब - ई संकल्प लियाओल जाएछ। तहिना जे कियो बिना मांगरूपी दहेज केर विवाह करैथ हुनकर यशगान करब, समाज मे हुनकर इज्जत-प्रतिष्ठा बढेबाक लेल समारोहपूर्वक सम्मान देबाक काज सेहो दहेज मुक्त मिथिला द्वारा कैल जाएछ। एकर अतिरिक्त मैथिली भाषा व मिथिलाक धरोहर संरक्षणार्थ आम जागृति करैत अप्रत्यक्ष रूप सँ सेहो दहेज प्रथाक कूरीतिपर प्रकाश दैत पुनः आत्मसंकल्प लेबाक प्रेरणा देल जेबाक काज एहि संस्था-अभियान द्वारा कैल जाएछ।
२. दहेज केँ कोन ढंग सँ परिभाषित करैत अछि?
उ. दहेजक परिभाषा विवाह पूर्व माँग करब, शर्त राखब, जबरदस्ती करब, बेटीवलाक आर्थिक क्षमता सँ बाहर जाय कोनो तरहक विध-व्यवहार पूरा करबाक धौंस देब, आदि केँ मानैत छी। ई सब बात एक्के टा 'माँग' जे वरपक्ष कन्यापक्षपर बलजोरी थोपैत अछि, तेकरे दहेज कहल जाएत छैक। संवैधानिक भाषा मे सेहो दहेजक परिभाषा यैह छैक। बाकी स्वेच्छा सँ कन्यापक्ष अपन कन्याक विवाह लेल केहेन घर-वर करत आर ताहि लेल कतेक खर्च करत, भले नगदे अपन जमाय-बेटी केँ कियैक नहि गानत, कतबो साँठ आ भार - उपहार आदि कियैक नहि साँठत, ई सब दहेज केर रूप मे हम सब नहि गानैत छी। तैँ, कियो टकाक बलपर बेमेल विवाह कराबय, ओतय बेटीवलाक सेहो दोख देखैत छी। लेकिन नीति सँ बान्हल जतय-कतहु स्वेच्छा सँ कोनो तरहक लेन-देन भेल अछि तेकरा हम सब दहेज एकदम नहि मानैत छी आर समाजक नीति-नियतिपर छोड़ि मात्र माँगरूपी दहेजक प्रतिकार लेल जनजागरण हमरा सभक अभियान अछि।
३. एहि संस्थाक सांगठनिक स्वरूप कि छैक?
उ. ओना तऽ आर संस्था जेकाँ ईहो भारत व नेपाल जतय-जतय मैथिल (मिथिलावासी) समाज रहैत अछि ओहि सब ठाम काज करबाक लेल दिल्ली आ राजविराज दुइ ठाम पंजीकृत रहैत कार्यकारिणी समितिक संग कार्यरत अछि, लेकिन सोसल मीडिया सँ जन्म भेल एहि संस्थाक संगठन सँ बेसी 'अभियान'रूप मे स्थापित होयबाक बात बेसी महत्वपूर्ण छैक। अहाँ कतहु रहू, दहेज मुक्त मिथिलाक अभियान संग जुड़िकय एकर नारा केँ अपनेबाक लेल समाजक हरेक वर्ग, जाति, धर्म, समुदायक लोक केँ प्रेरित कय सकैत छी। एहि वास्ते अहाँ स्वायत्तशासी संगठन अपन क्षेत्र लेल स्वयं गठन कय सकैत छी। सदस्यता बाँटि सकैत छी। समाज मे भऽ रहल दहेज मुक्त विवाह केँ सम्मान देबाक अछि। दहेजक माँग भेल शिकायत भेटलापर माँग कएनिहार पक्ष सँ वार्ता करैत आपस मे बुझारत करा सकैत छी। जरुरत पड़ल तऽ पीड़ित पक्ष लेल न्यायिक प्रक्रिया सेहो चला सकैत छी। लेकिन मुख्य रूप सँ माँगरूपी दहेज विरुद्ध आत्मसंकल्प लियेबाक काज करैत अपन समाजक लोक केँ एहि कूप्रथा सँ दूर करू, दहेज मुक्त मिथिलाक यैह टा आह्वान अछि। फिलहाल, पहिने कहल हरेक स्थान पर एकटा संयोजक, राष्ट्रीय स्तर पर एकटा कार्यकारिणी द्वारा संस्थाक समस्त सरोकार रेख-देख कैल जाएछ।
४. जाहि तरहें समाज मे दहेज कोढी समान खतरनाक चर्मरोग जेकाँ पसैर गेल छैक, तेहेन स्थिति मे एकर अन्तिम निदान संभव बुझा रहल अछि? जँ हँ त कोना?
उ. संसार मे कोनो प्रथा पहिने समाज केँ सही दिशा मे बढेबाक लेल आरम्भ होएत छैक। दहेज प्रथा सेहो बेटीधन प्रति पैतृक संपत्ति सँ प्राकृतिक हक देबाक जेकाँ विधान सँ व्यवहृत होएत देखाएत अछि। माय-बापक अर्जित संपत्ति सँ बेटीक हक केँ मूर्त-सम्पत्तिक रूप मे नहि दय ओकरा दहेजरूपी अमूर्त सम्पत्ति मे देबाक सोच पूर्व मे प्रारंभ कैल गेल जेना हम मानैत छी। शास्त्र सेहो स्त्रीधन केर चर्चा करैत अछि, हलाँकि ओ एतेक न्युन आर गुप्त होएत अछि जे आँटाक लोइया मे नुकाकय देल जेबाक विधान कहल गेल अछि आर एहि पर मात्र कन्याक अधिकार होयबाक बात सेहो उल्लेख अछि। लेकिन कालान्तर मे भौतिकतावादक बढैत असैर सँ आइ ई कोढी समान रोग जेकाँ पसैर गेल अछि। जे दहेज आशीर्वादक रूप मे केकरो बेटा केँ ओकर सासूर सँ भेटैत छलय, जेकरा लोक-समाज केँ हकारिकय देखेबाक चलन-चलती छलय, से आइ एहेन कुरूप अवस्था मे चलि गेल अछि जे कतेको बेटीक बाप केँ साकिम बना देलक, कतेको बेटी स्वयं दहेजक बेदीपर बलि चढा देल गेल, कतेको बेटीक जन्म सँ पहिनहि ओकर भ्रूणहत्या कय दैत अछि, जाहि नारीक नारित्व सँ मानव समाजक सृष्टि चलैत अछि तेकरे आइ एहि दुर्दशा मे राखल जा रहल अछि से हम सब देखि रहल छी। तखन एकर निदान सेहो क्रमशः संभव होएत हम देखि रहल छी। स्वेच्छाचारिताक विकास सँ मात्र ई कूप्रथाक अन्त हम देखि रहल छी। एहेन परिवार मे कथमपि कुटमैती नहि कैल जाय जतय माँगरूपी दहेजक व्यवहार लेल कन्यापक्षपर दबाव देल जाय। कन्यापक्ष केँ सेहो यदि अपन सम्पत्तिक दंभ सँ कोनो वर केँ पैसे-दहेजे बले बियैह देबाक मनसा देखी तऽ ओहेन कन्याक संग कदापि अपन बेटाक कुटमैती तय नहि करी। स्वयं शुद्ध रही, मात्र शुद्ध लोक संग कुटमैती तय करबाक मनोबल संग दुइ आत्मा केँ परिणय सूत्र मे बन्हबाक कठोर संकल्प लेब आवश्यक अछि। दहेज लोभी केँ वा दहेज दंभी केँ दरबज्जा पर प्रवेश तक निषेध करब आवश्यक अछि। स्वेच्छा सँ न्युनतम खर्च मे बिना कोनो बाह्याडंबर विवाह करबाक प्रचलन केँ प्रवर्धन सँ एहि कूप्रथाक अन्त होयत। समाज मे दहेज लेनिहारक प्रशंसा त कोनो हाल मे नहि हो, ओकरा जतेक दूसल-फटकारल जाय ओतेक कम हो, तखनहि लोक केँ एहि कूप्रथा सँ मोहभंग होयत।
दहेज मुक्त मिथिला हरेक समाज सँ अपील करैत अछि जे बेसी किछु नहि, मात्र एकटा निगरानी समिति बनाबी आर अपन समाज मे भऽ रहल कुटमैतीक तथ्यांक राखी। दहेज मुक्त विवाह कएनिहार केँ सार्वजनिक सभा द्वारा यशगान करी, सम्मान प्रदान करी। एकर सकारात्मक प्रभाव दूरगामी अछि आर कूप्रथा सँ निजात दियाबयवला अछि।
५. नवतुरिया मे दहेजक लेन-देन प्रति केहेन मानसिकता देखैत छियैक?
उ. नवतुरिया मे दहेज प्रतिष्ठाक विषय नहि बनि एकटा कूप्रथाक रूप मे प्रचलित भऽ रहल अछि, ई उत्साहवर्धक अछि। दहेज मुक्त मिथिालक लक्ष्य मे सेहो मात्र नवतुरिया सँ बेसी चर्चा चलेबाक आर संकल्प लियेबाक मूल बात निहित अछि। आइ बेटा आ बेटी केँ लोक समान रूप सँ शिक्षा दय रहलैक अछि। तथापि किछु एहेन वर्ग-समुदाय एखनहु छैक जे बेटी केँ मात्र घरायसी काजक वस्तु बुझि ओकरा शिक्षा सँ वंचित रखैत छैक। ओहि ठाम समस्या एखनहु विकराल छैक।
६. दहेज कूप्रथा उन्मुलन हेतु समाजक अगुआ सब केँ कोन ढंग सँ आगाँ एबाक आवश्यकता छैक?
उ. समाज सब सँ पहिने दहेजक प्रदर्शन देखब बन्द करय। दहेज मे आयल साँठ आ उपहार सब नितान्त व्यक्तिगत थिकैक से बुझि ओहि मे अपना लेल आनन्द आ भोज-भातक लोभ सँ दूर करय। बरियातीक आमंत्रण भेटलोपर कन्यापक्षक बाध्यता आ सीमितता केँ कदर करय। खस्सी केँ जान जाय आ खबैया केँ स्वादे नहि - ई कहबी अनुरूप अपन मानवता केँ बेइज्जती अपने सँ नहि करय।
समाजक अगुआ केँ टोल-समिति आ गाम-समिति केर तर्ज पर वैवाहिक सम्बन्ध कायम होयबाक निगरानी समिति बनेनाय अत्यन्त आवश्यक अछि। समाज जँ चाहत तऽ ओ अपना केँ दहेज मुक्त कय सकैत अछि। पहिने सेहो जे समाजक बात केर अवहेलना करय ओकरा समाज बारि दैत छलय। समाजक दंड विधान सब तरहक मानवीय अपराध केँ अन्त करबाक सर्वसुलभ उपाय होएछ। ई बात समाजक अगुआ बुझय। आइ ई कूप्रथा मात्र आ मात्र समाज केर उल्टा दिशा मे नियम चलेबाक दुष्परिणाम थीक, आर एहि गलती केँ सुधार करय लेल समाजहि केँ आगू आबय पड़त।
७. संस्थाक उद्देश्य प्राप्ति तथा आरो व्यापक बनेबाक लेल आगामी कार्ययोजना कि सब अछि?
उ. युग अनुरूप अपन व्यक्तिगत आवश्यकताक पूर्ति करबाक प्राथमिकता केँ ध्यान दैत बचल समय मात्र हम सब समाज लेल खर्च करैत छी। तथापि, समाज लेल चिन्तन करब हमरा लोकनिक फर्ज थीक आर ताहि सँ ई अभियान संभव भऽ सकल अछि। आगामी समय मे - सामूहिक विवाह करायब, वैवाहिक परिचय सम्मेलन करायब, संगठन केँ मूर्तरूप मे आरो विस्तार देब, गाम-गाम मे निगरानी समिति बनबायब मुख्य रूप सँ ऊपर अछि। बाकी साल भैर मे पैघ-पैघ समारोह, गोष्ठी, सेमिनार, आदि मे जेना दहेज मुक्त मिथिला निर्माणार्थ चर्चा होएत अछि से यथावत् रहत।
अन्त मे एकटा अनुरोध करब, जतेक लोक हमर ई विचार पढलनि अछि ओ तऽ संकल्पित निश्चिते टा होएथ - संगहि जतेक दूर धरि संभव होएन, कृपया एहि अभियान केँ स्वेच्छाचारिताक धर्म अनुरूप प्रसार करैथ। कन्यादान बड पैघ यज्ञ थीक, एहि मे जतेक बेसी संभव होएन ततेक परोपकार करैत अपन जीवनक सार्थकता केँ बढबैथ। आभारी छी अहाँक जे ई अवसर देलहुँ। धन्यवाद।

प्रवीण नारायण चौधरी