dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

मंगलवार, 5 जून 2018

मिथिला वासी सब मैथिल छथि - रेवती रमण झा " रमण "


  || मिथिला वासी सब मैथिल छथि ||
        ।। गीत ।।


                                    
                   विद्यापति  केर गीत  कोयलिया
                   गाबि   रहल   अछि   भोरे  सं ।
                   मिथिलावासी सब मैथिल छथि
                   सुनू   कहैत   अछि  जोरे  सं ।।

                                         मिथिला वासी....

                   कुलदेवी      चिनुआरे    बैसलि

                   कुल   पर   ध्यान   धेने   छथि ।
                   अचरी   मौर  माथ   पर  राजित
                   गुड़हल    फूल    लेने    छथि ।।

                   जय-जय भैरवि असुर भयावनि

                   सुनिते   अयलहुँ   ओरे   सं ।। 
                                     मिथिला वासी....



                   वर   सोहर   समदाउन   नचारी

                   बटगवनी  अछि जन - जन में ।
                   उगना   दास    दिगम्बर   भोला
                   छथि मिथिला के कण-कण में ।।
                   विद्यापति विरहिनिक व्यथा के
                   सबटा     लिखलनि  नोरे   सं ।। 
                               मिथिला वासी...



                   अस्सी  वरषक  बूढ़  दलान  पर

                   जखन   गबै      छथि   विरहा ।
                   पियू  कहाँ   कहिरहल  कात   में
                   आमक      गाछ      पपिहरा ।।

                   घड़िघन्टा      चानन     चनरौटा

                   गीता      सबहक     ठोरे     सं ।
                   "रमण" देल परिचय मिथिला केर
                    अपन   शब्द   में   थोरे      सं ।। 
                                   मिथिला वासी...



                                     गीतकार

                           रेवती रमण झा " रमण "
                                         
  

            

कोई टिप्पणी नहीं: