dahej mukt mithila

(एकमात्र संकल्‍प ध्‍यान मे-मिथिला राज्‍य हो संविधान मे) अप्पन गाम घरक ढंग ,अप्पन रहन - सहन के संग,अप्पन गाम-अप्पन बात में अपनेक सब के स्वागत अछि!अपन गाम -अपन घरअप्पन ज्ञान आ अप्पन संस्कारक सँग किछु कहबाक एकटा छोटछिन प्रयास अछि! हरेक मिथिला वाशी ईहा कहैत अछि... छी मैथिल मिथिला करे शंतान, जत्य रही ओ छी मिथिले धाम, याद रखु बस अप्पन गाम - अप्पन बात ,अप्पन मान " जय मैथिल जय मिथिला धाम" "स्वर्ग सं सुन्दर अपन गाम" E-mail: apangaamghar@gmail.com,madankumarthakur@gmail.com mo-9312460150

शनिवार, 8 जुलाई 2017

हनुमंत - पचीसी ,

|| हनुमंत - पचीसी || 
ग्रह गोचर सं परेसान त  अहि हनुमंत - पचीसी  के ११ बार पाठ जरूर करि --- 

        हनुमान   वंदना  
शील  नेह  निधि , विद्या   वारिध
             काल  कुचक्र  कहाँ  छी  
मार्तण्ड   तम रिपु  सूचि  सागर
           शत दल  स्वक्ष  अहाँ छी
कुण्डल  कणक , सुशोभित काने
         वर कच  कुंचित अनमोल  
अरुण तिलक  भाल  मुख रंजित
            पाँड़डिए   अधर   कपोल
अतुलित बल, अगणित  गुण  गरिमा
         नीति   विज्ञानक    सागर  
कनक   गदा   भुज   बज्र  विराजय 
           आभा   कोटि  प्रभाकर  
लाल लंगोटा , ललित अछि कटी
          उन्नत   उर    अविकारी  
  वर   बिस   भुज  रावणअहिरावण
         सब    पर भयलहुँ  भारी  
दीन    मलीने    पतित  पुकारल
        अपन  जानि  दुख  हेरल  
"रमण " कथा ब्यथा  के बुझित हूँ
        यौ  कपि  किया अवडेरल
-:-
|| दोहा || 
संकट  शोक  निकंदनहि , दुष्ट दलन हनुमान | 
अविलम्बही दुख  दूर करू ,बीच भॅवर में प्राण ||  
|| छंद || 

जन्में   रावणक   चालि    उदंड | 
यतन  कुटिल   मति छल प्रचंड  || 
बसल जकर चित नित पर नारि   | 
जत शिव पुजल,गेल  जग  हारि  || 
रंग - विरंग   चारु     परकोट   | 
गरिमा   राजमहल   केर   छोट || 
बचन  कठोरे    कहल    भवानी | 
लीखल भाल वृथा  नञि   वाणी  || 
|| चौपाइ || 
रेखा       लखन    जखन    सिय  पार  |
वर        विपदा     केर    टूटल   पहार ||
तीरे     तरकस     वर   धनुषही  हाथ   | 
रने -       वने     व्याकुल     रघुनाथ  || 
मन  मदान्ध   मति  गति सूचि राख  | 
नत   सीतेहि, अनुचित   जूनि   भाष  || 
झामरे -  झुर    नयन   जल  - धार  | 
रचल    केहन   विधि  सीय   लिलार || 
मम   जीवनहि      हे   नाथ    अजूर   | 
नञि    विधि   लिखल   मनोरथ  पुर  || 
पवन    पूत   कपि     नाथे    गोहारि  | 
तोरी     बंदि    लंका    पगु      धारि  || 
रचलक    जेहने     ओहन     कपार  | 
 दसमुख    जीवन     भेल      बेकार  || 
रचि     चतुरानन     सभे     अनुकूल  |
भंग  - अंग  , भेल   डुमरिक   फूल  || 
गालक    जोरगर    करमक    छोट  | 
विपत्ति   काल  संग  नञि  एकगोट || 
हाय   -   हाय    लंका    जरी     गेल  | 
रहलइ      वैह  ,जे    धरमक    भेल  || 
अंजनि    पूत     केशरिक       नंदन  | 
शंकर   सुवन    जगत  दुख   भंजन  || 
अतिमहा     अतिलघु     बहु     रूप  | 
जय    बजरंगी     विकटे    स्वरूप   || 
कोटि     सूर्य    सम    ओज   प्रकाश | 
रोम -  रोम      ग्रह   मंगल     वास  || 
तारावलि     जते     तत     बुधि  ज्ञान |
पूँछे  -  भुजंग      ललित     हनुमान || 
महाकाय        बलमहा       महासुख  | 
महाबाहु       नदमहा       कालमुख  || 
एकानन     कपी    गगन      विहारी  | 
यौ      पंचानन        मंगल      कारी  || 
सप्तानन     कपी    बहु  दुख   मोचन | 
दिव्य   दरश   वर   ब्याकुल   लोचन  || 
रूप     एकादस      बिकटे     विशाल  | 
अहाँ    जतय     के     ठोकत    ताल || 
अगिन     बरुण    यम  इन्द्रहि  जतेक | 
अजर - अमर    वर    देलनि  अनेक ||  
सकल    जानि      हर्षित   सीय    भेल | 
सुदिन    आयल   दुर्दिन    दिन   गेल || 
सपत   गदा   केर   अछि   कपि   राज | 
एहि    निर्वल    केर   करियौ    काज  || 
|| दोहा  ||
जे   जपथि  हनुमंत  पचीसी  
सदय    जोरि  जुग    पाणी  | 
शोक    ताप    संताप   दुख
 दूर   करथि   निज   जानि || 
-;-

 हनुमान जी के आरती  

बजरंगबली         के      आरती 
आइ       उतारू     ध्यान    सँ  | 
नञि  बुझलक दुख  हमर कियो 
जे , आइ   कहब   हनुमान सँ  || 
   बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
 टरल बिकट वर - वर  पथ -कंटक 
                               दया  दृष्टि  जेहि  देलों  यों  | 
                               रघुनन्दन  दुख  भंजन के दुख 
                               काज सुगम  सँ  कयलौ  यौ  || 
                               जा पताल  अहिरावण मारल 
                                बज्र गदा के वान सँ -
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                               लखनक प्राणे , पलटि  आनि कय 
                                राम हीया  हुलसइलौ यौ  | 
                                कालक  गाले  जनक  नंदनी 
                                लंका   जाय   छोरयलौं  यौ  || 
                              जहिना  बीसभुज  के निपटयलों 
                               अपनेही बुधि  बल ज्ञान  सँ || 
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                               ज्ञान ध्यान रहि , मृत जीवन सन 
                               संत विभीषन छल नरक तल में  | 
                               लंका के  ओ  राजा  बनि  गेल 
                               अहाँक दया सं एक पल में || 
                              "रमणक " काज  सुतारु  ओहिना 
                               अपन कृपा  वरदान सँ  || 
                               बजरंगबली के  -- नञि  बुझलक --
                                   
रचित -
रेवती रमण झा " रमण "
ग्राम - पोस्ट - जोगियारा पतोर
आनन्दपुर , दरभंगा  ,मिथिला
मो 09997313751

कोई टिप्पणी नहीं: